"लोगों को मेरी सफलता पचती नहीं है", अपने आलोचकों पर बुरी तरह भड़के Riyan Parag, 5 लाइन के जवाब से कर डाली बोलती बंद
"लोगों को मेरी सफलता पचती नहीं है", अपने आलोचकों पर बुरी तरह भड़के Riyan Parag, 5 लाइन के जवाब से कर डाली बोलती बंद

आईपीएल 2023 और इमर्जिंग एशिया कप में फ्लॉप साबित होने के बाद रियान पराग (Riyan Parag) का बल्ला घरेलू क्रिकेट में बढ़-चढ़ कर बोल रहा है. उन्होंने हाल ही में समाप्त हुई देवधर ट्रॉफी में कमाल का प्रदर्शन किया और अपनी बल्लेबाज़ी के साथ-साथ गेंदबाज़ी से शानदार खेल दिखाया. हालांकि रियान पराग (Riyan Parag) अक्सर सोशल मीडिया पर ट्रोल होते रहते हैं. लेकिन अब उन्होंने ट्रोलर्स की बोलती बंद कर दी है और उन्हें करारा जवाब दिया है. उन्होंने बताया कि आखिर उन्हें ट्रोलर्स क्यों निशाने पर लिए रहते हैं.

Riyan Parag ने की बोलती बंद

Riyan Parag

बता दें कि इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक रियान पराग खुद इस बात को समझ नहीं पाते हैं की आखिर लोग उन्हें क्यों ट्रोल करते हैं. उनका कहना है कि वह कॉलर उपर करते हैं या कैच पकड़ने के बाद जश्न मनाते हैं या खाली समय में गोल्फ खेलते हैं. इस बात से पता नहीं लोगों को क्या दिक्क्त है. हालांकि इस बात का जवाब देते हुए रियान पराग ने कहा की उन्हें अच्छी तरह मालूम है कि लोग उन्हें ट्रोल क्यों करते हैं. उन्होंने इसका जवाब अपना अंदाज़ में दिया है.

लोगों को सफलता हज़म नहीं होती-Riyan Parag

Riyan Parag

रियान पराग ने अपने ट्रोलर्स को करारा जवाब देते हुए कहा कि, क्रिकेट किस प्रकार से खेलना है. इसको लेकर नियम की एक किताब है, जिसके हिसाब से जर्सी अंदर होनी चाहिए, कॉलर नीचे होना चाहिए. सभी को इज्जत देनी चाहिए. फील्ड पर स्लेज नहीं करना चाहिए. लेकिन वह इस किताब के बिलकुल विपरीत हैं. रियान पराग का मानना है कि उन्होंने मज़े लेने के लिए इस खेल को खेलना शुरु किया है. उन्होंने आगे कहा कि लोगों को ये बात हज़म नहीं होती की वह इतने बड़े लेवल पर खेल रहे हैं.

देवधर ट्रॉफी में काट चुके हैं बवाल

Riyan Parag

देवधर ट्रॉफी में रियान पराग (Riyan Parag) ने 354 रन बनाने के साथ-साथ 11 विकेट लिए थे. लेकिन आईपीएल 2023 में उनका बल्ला बुरी तरीके से फ्लॉप साबित हुआ था. उन्होंने इस सीज़न 7 मैच खेलते हुए केवल 78 रन बनाए थे. इस दौरान रियान पराग का औसत महज 13 का रहा था. उनका बेस्ट स्कोर 20 रन था. बहरहाल रियान आईपीएल के समय ट्रोलर्स के निशाने पर रहते हैं.

यह भी पढ़ें: 1983 से लेकर 2013 तक…टीम इंडिया के लिए लकी साबित हुए विदेशी कोच, 5 बार ICC की ट्रॉफी पर भारत ने जमाया कब्ज़ा