टीम इंडिया की अग्निपरीक्षा इंग्लैंड में एक बार फिर शुरू होने जा रही है. दरअसल, भारतीय टीम इंग्लैंड दौरे पर पहुंच गयी है जहां मेजबान टीम से टेस्ट, वनडे और टी-20 सीरीज खेलना है. टीम इंडिया के खिलाड़ी अंग्रेजों की धरती पर इस बार खुद को साबित करना चाहेंगे. वैसे तो भारतीय टीम का इंग्लैंड में रिकॉर्ड कुछ खास अच्छा नहीं रहा है लेकिन इस बार यह टीम अलग ही उत्साह के साथ गयी है. क्रिकेट जानकारों की माने तो इस बार भारतीय टीम कई कीर्तिमान स्थापित कर लौटने वाली है. आपको बता दें, इससे पहले टीम इंडिया कई कप्तानों की अगुवाई में इंग्लैंड गयी है लेकिन बहुत कम कप्तानों की कप्तानी में इस टीम ने इतिहास रचा है.

आज हम उन टीम महान कप्तानों के बारे में बताएंगे जिनकी कप्तानी में भारत को कभी भी टेस्ट में इंग्लैंड दौरे के दौरान हार का सामना नहीं करना पड़ा.

1-कपिल देव 

इस लिस्ट में भारत के उस महान कप्तान का नाम पहले आता है जिसकी कप्तानी में भारतीय टीम का डंका दुनिया भर में बजा. इस कप्तान ने टीम इंडिया का एक स्टैण्डर्ड सेट किया. कपिल देव की कप्तानी में भारत 1983 में पहली बार क्रिकेट विश्व कप को जीतने में कामयाब हो सका था. साल 1978 में राष्ट्रीय टीम का हिस्सा बने कपिल देव ने गेंद और बल्ले दोनों से बेहतरीन प्रदर्शन किया.

वैसे तो इंग्लैंड को उसकी घर में मात देना हमेशा से टेढ़ी खीर रहा है लेकिन पहली बार भारत का हौसला कपिन ने ही बढ़ाया था. साल 1986 में भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी. तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत ने शानदार खेल दिखाया था. भारतीय टीम ने इंग्लैंड को उसी के घर में धूल चटा दी थी और इंग्लैंड का इस सीरीज में सूपड़ा ही साफ कर दिया था. इस टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड भारत के खिलाफ एक भी टेस्ट मैच जीतने में नाकाम साबित हुए और भारत ने इस सीरीज में 2-0 से जीत हासिल की थी. टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह भारत की दूसरी टेस्ट सीरीज थी, जिसमें टीम ने जीत दर्ज की.

2- सौरव गांगुली

 

प्रिंस ऑफ कोलकाता कहे जाने वाले टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तानों में शुमार किया जाता है. इनकी अगुवाई में भारतीय टीम ने कई इतिहास रचे. इंग्लैंड में भारतीय टीम की जब भी बात होती है तो उसमे गांगुली का नाम पहले आता है. इस वजह से कि गांगुली ने एक मैच में जीत दर्ज करने के बाद लार्ड्स में अपना टीशर्ट उतारा लहराया था.

सौरव गांगुली ने टेस्ट कप्तानी करते हुए इंग्लैंड का दौरा भी किया. साल 2002 में भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी. इस टेस्ट सीरीज को भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ड्रा कराने में सफल रहे थे. इसके साथ ही कपिल देव के बाद सौरव गांगुल ऐसे दूसरे भारतीय कप्तान बन गए, जिन्होंने इंग्लैंड में एक भी टेस्ट सीरीज नहीं गंवाई.

3-राहुल द्रविड़

क्रिकेट के खेल में राहुल द्रविड़ को ‘द वॉल’ के नाम से पहचाना जाता है. अपने क्रिकेट करियर में राहुल द्रविड़ मैदान पर आते ही टीम के लिए क्रीज पर दीवार बनकर खड़े हो जाते थे.
राहुल द्रविड़ ने भी भारतीय टीम की कप्तानी की है और अपनी कप्तानी में राहुल द्रविड़ ने टीम का टेस्ट और वनडे दोनों फॉर्मेट में प्रतिनिधित्व किया है. राहुल ने अपनी कप्तानी में इंग्लैंड का दौरा भी किया है. साल 2002 की सीरीज के पांच साल बाद भारतीय टीम साल 2007 में राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में इंग्लैंड के दौरे पर गई थी

इंग्लैंड के खिलाफ साल 2007 में खेली गई इस सीरीज में भारत और इंग्लैंड के खिलाफ तीन टेस्ट मुकाबले खेले गए. इस सीरीज को टीम इंडिया ने 1-0 से अपने नाम किया था. इसके साथ ही सौरव गांगुली और कपिल देव के बाद राहुल द्रविड़ ऐसे तीसरे कप्तान बन गए जिन्होंने इंग्लैंड में सीरीज नहीं हारी.