युवराज सिंह धोनी

विश्व कप के सेमीफाइनल मुकाबले के बाद से महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट मैदान से दूर हैं। टूर्नामेंट के बाद से ही धोनी के संन्यास पर हर कोई अटकले लगाए जा रहा है। वहीं विकेटकीपर-बल्लेबाज क्रिकेट से छुट्टी लेकर लगातार सीरीज के लिए खुद को अनुपलब्ध बता रहे है। इसी क्रम में अब माही के साथ लंबे वक्त तक क्रिकेट खेलने वाले युवराज सिंह जिन्होंने जून में संन्यास लिया है। उन्होंने धोनी के भविष्य पर अपनी चुप्पी तोड़ी है।

युवराज सिंह ने तोड़ी दिग्गज के संन्यास पर चुप्पी

धोनी

10 जून को अपने क्रिकेट करियर को अलविदा कहने वाले युवराज सिंह और माही के बीच के रिश्ते से तो आप सभी वाकिफ होंगे। पहले गहरी दोस्ती और फिर तकरार…अब टाइम्स नाव से बात करते हुए युवी ने धोनी के संन्यास पर कहा,

“यह बात धोनी के लिहाज से बहुत गलत है कि लोग उनके संन्यास पर बात कर रहे हैं। हमें यह जानने की जरूरत है कि वह क्या चाहता है… वह महेंद्र सिंह धोनी है जिसने भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत कुछ किया है।”

दिग्गज की टीम में गैरमौजूदगी पर सभी का ध्यान विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत पर टिका हुआ है। विश्व कप के बाद चयनकर्ताओं ने यह साफ कर दिया था कि अब भविष्य के लिए ऋषभ पंत ही तीनों फॉर्मेट में हमारी प्राथमिकता हैं।

धोनी से पंत की तुलना करने की कोई जरूरत नहीं

पंत धोनी

कप्तान विराट कोहली और चयनकर्ता लगातार ऋषभ पंत को टीम में मौके पर मौके दिए जा रहे हैं। लेकिन पंत उन मौकों को अच्छे से भुना नहीं पा रहे। पहले वेस्टइंडीज फिर साउथ अफ्रीका सीरीज में भी उनके बल्ले से कुछ खास रन नहीं निलके। परिणामस्वरूप चारों तरफ पंत की आलोचना हो रही है। असल में हर किसी को पंत से माही जैसा खेल दिखाने की उम्मीद है यही कारण है कि पंत प्रेशर में हैं।

रिपोटर ने धोनी और पंत की तुलना के बारे में पूछा तो युवराज सिंह ने कहा,

” मुझे लगता है कि पंत से बात करने की जरूरत है और उनका बेस्ट कैसे बाहर निकालना है इसपर विचार करने की जरूरत है। पंत की आलोचना करने का कोई फायदा नहीं है, लेकिन मैं यह देखने के लिए उत्सुक हूं कि कौन उससे बात करता है और उसे अच्छी तरह समझकर उसकी मदद करता है। उनकी एमएस धोनी से तुलना करने का कोई मतलब ही नहीं है। एमएस धोनी बनने में कई साल लग गए।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *