सोमवार, 10 जून… यह वह दिन था, जब टीम इंडिया और विश्व क्रिकेट में सिक्सर किंग के नाम से मशहुर युवराज सिंह ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेकर सनसनी फैला दी थी. युवराज ने ना सिर्फ भारतीय क्रिकेट को अलविदा कहा, बल्कि आईपीएल से भी संन्यास का ऐलान कर दिया.

एक समय ऐसा हुआ करता था, जब युवराज सिंह के बिना टीम इंडिया की कल्पना भी करना किसी को गवारा नहीं था. देश को 2007 और 2011 के विश्व कप जीताने में युवराज सिंह का एक बहुत बड़ा हाथ रहा. खराब फॉर्म के चलते युवी 2015 का वर्ल्ड कप नहीं खेल सके और ना ही उनको 2019 के विश्व कप के लिए टीम का हिस्सा बनाया गया.

युवराज सिंह

अब युवराज सिंह ने अपने एक बयान में यह बात साफ की है कि वह भारतीय क्रिकेट टीम के लिए साल 2019 का एकदिवसीय विश्व कप खेलना चाहते थे. स्पोर्ट्स तक से खास बातचीत के दौरान युवराज ने अपने बयान में कहा,

”चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में 300वां मैच खेलने के बाद मैं चाहता था कि अगला वर्ल्ड कप खेलूं. 2015 का विश्व कप मैंने मिस किया था. मुझे अच्छा नहीं लगा, उस समय मैं रणजी ट्रॉफी में रन भी बना रहा था. उस समय माहौल थोड़ा अलग भी था. ऐसे में मेरे जेहन में था कि अगर में 2019 के वर्ल्ड कप की टीम में जगह बना सका तो यह एक बड़ी उपलब्धि होगी.

लेकिन इसके बाद बहुत सारे फैक्टर जिनके बारे में बात करनी है या नहीं तो उसके बीच में 2019 का विश्व कप आया और मैं तब तक 37 साल का हो गया था. बहुत सारी चीजें मेरे पक्ष में नहीं गई. सपोर्ट नहीं था तब मैंने सोचा कि मैं खुशनसीब हूँ कि मैं इतनी क्रिकेट खेल सका, उस बारे में सोचूं ना कि इस बारे में कि मुझे एक विश्व कप और खेलना है.

तीन 50 ओवर के वर्ल्ड कप खेलने के बाद मैं बीमार पड़ गया. इसके बाद मैंने कई टी-20 विश्व कप खेले. मैंने कुल मिलकर करियर में 8-9 वर्ल्ड कप में भाग लिया हैं. मुझे उसके लिए शुक्रगुजार होना चाहिए न कि ये सोचना चाहिए कि एक विश्व कप और खेलूँगा, नहीं खेलूँगा तो क्या? इस तरह की बातें मेरे दिमाग में चल रही थी. मुझे खुशी है कि मैंने सही समय पर संन्यास लिया.”

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *