युवराज सिंह

भारतीय टीम के लिए मध्यक्रम में सबसे सफल जोड़ी की चर्चा होती है तो अपने आप युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी का जिक्र हो जाता है. इन दोनों खिलाड़ियों ने साथ में मिलकर भारतीय टीम को कई मैच जीताया है. कई बार तो असंभव लग रहे मैच में भी जीत दर्ज कराया है.

युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धोनी के बीच दोस्ती की किस्से चलते थे. लेकिन करियर के अंत में दोनों खिलाड़ियों के बीच रिश्ते बहुत अच्छे नहीं रहे ये ख़बरें भी खूब चल रही है. युवराज सिंह ने अपने करियर में कई बड़े रिकॉर्ड भी बनाये. जहाँ तक महेंद्र सिंह धोनी नहीं पहुँच पायें.

आज हम आपको उन 4 युवराज सिंह के रिकॉर्ड के बारें में बताएँगे. जिसे महेंद्र सिंह धोनी अपने करियर में नहीं तोड़ पायें. इन  दोनों खिलाड़ियों के बीच जिस तरह से तुलना होती है. उसके बाद ऐसे रिकॉर्ड का होना बहुत ही शानदार रहा है. ये सभी रिकॉर्ड अपने आप में बहुत बड़े रहे हैं.

4. 6 गेंद पर 6 छक्के

MS Dhoni Yuvraj Singh cant be replaced easily feels MSK Prasad

सिक्सर किंग्स के नाम से मशहूर युवराज सिंह ने कई बार अपने छक्के लगाने की कला से प्रभावित किया है. साल 2007 में हुए टी20 विश्व कप के दौरान युवराज सिंह ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में स्टुअर्ट ब्रॉड के खिलाफ 6 गेंद पर 6 छक्के मारे थे. जहाँ पर इतिहास बनाया था.

जब युवराज सिंह 6 छक्का लगा रहे थे. उस समय दूसरे एंड पर महेंद्र सिंह धोनी ही खेल रहे थे. धोनी को भी छक्का लगाने के लिए जाना जाता है. लेकिन उन्होंने कभी भी ये कारनामा नहीं करके दिखाया. हालाँकि बात करें ज्यादा छक्के की तो वो धोनी के नाम ही दर्ज हैं.

माही ने हालाँकि भारतीय टीम के लिए लगातार 3 छक्के लगाये हैं. लेकिन इससे ज्यादा कभी नहीं किया है. हालाँकि एक टी20 लीग के दौरान उन्होंने 5 छक्के मारे थे. अब महेंद्र सिंह धोनी अपने करियर के अंत में पहुँच चुके हैं. वहां पर वो इस रिकॉर्ड को नहीं तोड़ सकते हैं.

3. 12 गेंद पर अर्द्धशतक

827204 49721 sjoirbtekj 1484882840

आलराउंडर युवराज सिंह ने ऐसे कई रिकॉर्ड बनाये हैं जिसे तोड़ पाना बहुत ही मुश्किल कहा जाता है. जिसमें से उनका सबसे प्रभावशाली रिकॉर्ड है 12 गेंद में ही अर्द्धशतक जड़ने का. जिस टी20 मैच में युवराज सिंह ने 6 छक्के लगाये थे. उसी टी20 विश्व कप के मैच में ही उन्होंने एक शानदार रिकॉर्ड बनाया था.

आज तक इस रिकॉर्ड को कोई नहीं तोड़ सका. जिसके कारण महेंद्र सिंह धोनी भी इससे दूर ही नजर आते हैं. उस पारी में युवराज सिंह ने 7 छक्के लगाये थे. सबसे अहम बात है की इस पारी को महेंद्र सिंह धोनी दूसरे छोर पर खड़े होकर देख रहे थे.

अगर महेंद्र सिंह धोनी के सबसे तेज अर्द्धशतक की बात करें तो उन्होंने वो फ्रेंचाइजी क्रिकेट में बनाया है. जब उन्होंने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मात्र 16 गेंदों में अर्द्धशतक जड़ा था. भारतीय टीम के लिए ऐसा कारनामा वो नहीं कर पायें.

 

2. 7 आईसीसी ट्रॉफी का फाइनल खेलना

8cf2b54bf8c4629ee32c750e70d74a2c

अपने सुनहरे क्रिकेट करियर में दिग्गज युवराज सिंह ने रिकॉर्ड 7 आईसीसी फाइनल खेले हैं. जिसमें पहला अंडर19 विश्व कप का फ़ाइनल था. उसके बाद उन्होंने चैंपियंस ट्रॉफी के 2 फ़ाइनल खेले हैं. जिसमें 2002 का और 2017 का था. उसके अलावा उन्होंने टी20 विश्व कप 2007 के फ़ाइनल में भी खेला था.

उसके साथ उन्होंने 2014 टी20 विश्व कप खेला. उसके साथ 2003 और 2011 में उन्होंने विश्व कप का फ़ाइनल खेला. जबकि महेंद्र सिंह धोनी ने 2007 में और 2014 में टी20 विश्व कप का फ़ाइनल खेला. जबकि 2011 में विश्व कप का फ़ाइनल भी खेला.

महेंद्र सिंह धोनी ने उसके अलावा 2013 और 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी का फ़ाइनल भी खेला. यदि आईपीएल जैसी लीगो की बात करें तो कई जाकर महेंद्र सिंह धोनी आगे निकलने में सफल होते हैं. लेकिन आईसीसी ट्रॉफी में युवराज सबसे आगे नजर आते हैं.

 

1. 3 लगातार सीरीज में प्लेयर ऑफ़ द सीरीज का अवार्ड

युवराज सिंह

दिग्गज युवराज सिंह का 2006-07 में सबसे अच्छा समय चल रहा था. वो उस समय कई रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बना रहे थे. उस समय जो रिकॉर्ड युवराज सिंह ने बनाये, उसके करीब भी जाना बहुत मुश्किल नजर आता है. जिसके कारण ही युवराज बहुत बड़े मैच विनर बने.

युवी ने इस बीच लगातार 3 सीरीज में मैन ऑफ़ द सीरीज का पुरस्कार जीता था. जो अपने आप में एक बड़ा रिकॉर्ड है. उन्होंने उन 3 लगातार सीरीज में भारतीय टीम के लिए कई मैच जीताये थे. जो उनके छवि के बिलकुल सामान ही था.

वही अगर फिर महेंद्र सिंह धोनी की बात करें तो उन्होंने भारतीय टीम के लिए लगातार दो सीरीज में भी ये पुरस्कार अपने नाम नहीं किया. इस बीच दोनों खिलाड़ियों के खेलने का अंदाज साफ़ नजर आता है. दोनों ने कई उपलब्धि हासिल किया. लेकिन युवराज के ये रिकॉर्ड के धोनी पास भी नहीं पहुंचे.