Yuvraj Singh

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज ऑलराउंडर खिलाड़ी युवराज सिंह के लिए मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। दरअसल, हरियाणा पुलिस ने पिछले साल जून में लॉकडाउन के दौरान रोहित शर्मा के साथ एक चैट वीडियो पर बात करते हुए लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल पर की आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर अब दूसरी एफआईआर दर्ज कर दी है। हालांकि इसके बाद खुद युवराज ने इसके लिए माफी मांगी थी।

आठ महीने बाद हुई एफआईआर दर्ज

युवराज सिंह

युवराज सिंह की मुश्किलें रविवार 14 फरवरी को बढ़ी। जब हरियाणा पुलिस ने हिसार के थाना हांसी में आईपीसी की धारा 153, 153 A, 295, 505 के अलावा एससी/एसटी एक्‍ट की धारा 3 {1) (r) और 3(1)(s) के तहत एफआईआर दर्ज की।

नेशनल अलायंस और दलित ह्यूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने 11 जनवरी को अदालत में याचिका दायर कर आरोप लगाया था कि बीते वर्ष 2 जून को उन्होंने युवराज सिंह के खिलाफ हांसी पुलिस को एक शिकायत दी थी, जिसमें उन्‍होंने मुकदमा दर्ज कर युवराज को गिरफ्तार करने की मांग की थी। 8 महीने बाद कोर्ट ने युवराज के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया।

क्या है मामला?

लॉकडाउन के दौरान क्रिकेटर्स लाइव चैट के जरिए फैंस व एक-दूसरे से जुड़े हुए थे। युवराज सिंह ने भी कई बार इंस्टाग्राम पर लाइव सैशन अटैंड किए और फैंस को काफी मनोरंजित किया। लेकिन 1 जून को उन्होंने रोहित शर्मा के साथ एक लाइव चैट की, जिसमें उन्होंने युजवेंद्र चहल पर कुछ टिप्पणी करते हुए जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल कर दिया था। जिसके चलते उन्हें ट्रोलिंग का तो सामना करना ही पड़ा, साथ ही साथ उनपर एफआईआर भी दर्ज की गई थी। इस मामले पर युवराज ने सोशल मीडिया पर ही सभी से माफी भी मांगी थी।

मामला बढ़ने पर युवराज ने मांगी थी माफी

IMG 20200908 WA0079 1024x576 1

युवराज सिंह भारत के उन खिलाड़ियों में से हैं, जिनका क्रिकेट में बड़ा योगदान रहा है और उन्हें काफी पसंद किया जाता है। लेकिन जब युवराज को लेकर ट्विटर पर उनसे माफी मांगे जाने की मांग की जा रही थी तभी युवी ने 5 जून 2020 को लंबा-चौड़ा पोस्ट शेयर करते हुए माफी मांगी थी। उन्होंने लिखा था कि,

“यह स्पष्ट करना है कि मैंने कभी भी किसी भी प्रकार की असमानता में विश्वास नहीं किया है, चाहे वह जाति, रंग, पंथ या लिंग के आधार पर हो। मैंने लोगों के कल्याण के लिए अपना जीवन दिया और जारी रखा है। मैं जीवन की गरिमा में विश्वास करता हूं और बिना किसी अपवाद के प्रत्येक व्यक्ति का सम्मान करता हूं।”

“मैं समझता हूं कि जब मैं अपने दोस्तों के साथ बातचीत कर रहा था, तो मुझे गलत समझा गया, जो अनुचित था। हालांकि, एक जिम्मेदार भारतीय के रूप में मैं यह कहना चाहता हूं कि अगर मैंने अनजाने में किसी की भाव या भावनाओं को आहत किया है, तो मैं उसी के लिए खेद व्यक्त करना चाहता हूं…भारत और इसके लोगों के लिए उनका प्यार शाश्वत है।”