The Story of first womens cricket world cup in 1973
The Story of first womens cricket world cup in 1973

आईसीसी महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप 2022 (Women’s World Cup 2022) का आगाज हो चुका है और इस टूर्नामेंट का पहला मुकाबला खेला जा रहा है. इस टूर्नामेंट में दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों ने हिस्सा लिया है. 5 साल की लंबी तैयारी के बाद आखिरकार इस खिताब केस लिए टीमों के बीच भिड़त शुरू हो गई है. हालांकि इस स्तर पर पहुंचने के बाद भी आज ऐसे लोगों की कमी नहीं है जिनका ये मानना है कि जिस तरह से कामयाबी पुरुष क्रिकेट के वर्ल्ड कप को मिलती है उस तरह महिला विश्व कप (Women’s World Cup) को नहीं मिलती है.

पुरूष वर्ल्ड कप से पहले ही महिला क्रिकेट की ओर से की जा चुकी थी इसकी शुरूआत

 The Story of first womens cricket world cup in 1973

लेकिन, इस सवाल पर किसी ने ध्यान देने की कोशिश की कि जब पुरुष क्रिकेट में 1975 में वर्ल्ड कप शुरू हुआ तो उसके लिए प्रेरणा कौन था? तो इसका जवाब महिला क्रिकेट का वर्ल्ड कप (Women’s World Cup) था जो उससे भी दो साल पहले आयोजित हुआ था. ऐसे में सवाल ये भी उठता है कि महिला क्रिकेट के लिए ये किसने सोचा होगा तो इसके जवाब काफी दिलचस्प है. जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं.

दरअसल साल 1971 की बात है जब ईस्टबोर्न में इंग्लैंड की महिला क्रिकेट कप्तान रेचल हेहो फ्लिंट, महिला क्रिकेट के शौकीन और उस दौर के एक रईस जैक हेवर्ड के घर पर रूकी हुई थीं. इस वक्त ब्रांडी की बोतल खुली हुई थी और इस पर चर्चा जारी थी कि महिला क्रिकेट को किस तरह से और भाी ज्यादा बेहतर किया जाए? इन्हीं बातों के बीच ये जिक्र हुआ कि फीफा के वर्ल्ड कप की तर्ज पर इससे जुड़ा टूर्नामेंट खेलो.

कैसे और कहां से शुरू हुआ था ये टूर्नामेंट

how to start womens world cup 1973

उन दौर की बात है जब महिला क्रिकेट मुफलिस हालत में थी. यहां तक कि क्रिकेटर खुद खेलने के विषय पर बात किया करती थीं इसके लिए पैसा कहां से आएगा? हेवर्ड ने इस बारे में बात करते हुए कहा, यदि इंग्लैंड में हो ये महिला वर्ल्ड कप (Women’s World Cup) तो वे खर्चे में मदद के लिए 40,000 पौंड की रकम देंगे. उस समय ये छोटी मोटी नहीं बल्कि बहुत बड़ी कीमत थी. इस चर्चा के बाद पहला टूर्नामेंट 1973 में इंग्लैंड में खेला गया.

उस दौरान समस्या इस बात की भी थी कि इसके मेजबानी का और कोई दावेदार नहीं था. इस टूर्नामेंट का आगाज भी अच्छा नहीं रहा. बारिश की वजह से वर्ल्ड कप का पहला ही मैच (केव ग्रीन में) नहीं खेला जा सकता था. कई जगह हेवर्ड का नाम इसके स्पांसर के तौर पर लिखा है. 14 जून 1973 को जब सभी टीमें मौजूद थीं तो उस दौरान खूबसूरत सिल्वर ट्रॉफी की तस्वीर भी पहली बार सामने आई. इसके बगल में हेवर्ड खड़े थे.

कुछ ऐसी रहीं पहले वर्ल्ड कप की यादें

 England team won the first Women's World Cup in 1973

उस दौरान शुरू हुई ये विरासत लगातार वक्त के साथ आगे बढ़ती गई. इसके मुकाबले साल 1973 में 20 जून से लेकर 28 जुलाई के बीच खेले गए थे. पहला वर्ल्ड कप इंग्लैंड ने जीता- 28 जुलाई को एजबेस्टन में ऑस्ट्रेलिया को फाइनल में शिकस्त देते हुए अंग्रेजी टीम ने कारनामा किया था. कुछ ऐसी रही महिला वर्ल्ड कप (Women’s World Cup) के शुरूआत की यादें जो पुरूष क्रिकेट वर्ल्ड कप से पहले आयोजित हुआ था.