BCCI
Women's T20 Challenge and IPL

महिला टी-20 चैलेंज (Women’s T20 Challenge) टूर्नामेंट का चौथा सीजन खेला जा रहा है. इस टूर्नामेंट के अभी तक तीन मुकाबले खेले जा चुके हैं. जबकि फाइनल मैच 28 मई को खेला जाएगा. अब यहां एक सवाल खड़ा होता कि एक तरफ तो BCCI की महिला टी-20 क्रिकेट क समान अधिकार देने की बात करते हैं. लेकिन, महिला टी-20 चैलेंज में महज 4 मैच का आयोजन कराया जाता है. जबकि आईपीएल की बात करें, तो इसमें 70 मैच खेले जाते हैं. ऐसे में बीसीसीआई की रणनीतियों पर सवाल उठना लाजमी है.

BCCI की मंशा पर खड़े होते हैं सवाल?

Womens T20 Challenge
Women’s T20 Challenge 2022

भारत में पुरूष आईपीएल की तर्ज पर वुमेंस आईपीएल लाने की बात भी की जा रही है. जिसमें महिला खिलाड़ियों को भी अपनी काबिलियत दिखाने का मौका मिलेगा. आईपीएल का मक्सद ही यही होता है कि नए टैलेंट को प्लेटफॉर्म मिल सके. वहीं महिला टी-20 क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए बीसीसीआई ने साल 2018 में महिला टी-20 चैलेंज (Women’s T20 Challenge) की शुरूआत की.

जिसमें फैंस को पुरूष आईपीएल जैसा ही रोमांच देखने को मिलेगा. जबकि ऐसा नहीं है. बता दें कि, इस टूर्नामेंट में सिर्फ 4 मैच खेले जाते हैं. जिसमें एक टीम बाकी 2 टीमों से सिर्फ 1-1 ही मैच खेल पाती है. एक तरफ आईपीएल की बात करें, तो इसमें 70 मैच खेले जाते हैं. क्या ऐसे में बीसीसीआई की मंशा पर सवाल खड़े नहीं होते हैं? क्या महिला खिलाड़ियों को पुरूषों के बराबार मैच खेलने का मौका नहीं मिलने चाहिए?

महिला खिलाड़ियों के साथ भेदभाव क्यों ?

BCCI
Women’s T20 Challenge

फैंस बीसीसीई (BCCI) पर निशाना साध रहे हैं कि उन्हें पुरूष आईपीएल की तर्ज पर वुमेंस आईपीएल कब देखने को मिलेगा. ऐस में सवाल यह खड़ा होता कि क्या महिला टी-20 चैलेंज (Women’s T20 Challenge) जैसे टूर्नामेंट में 4 मैचों का सिलसिला जारी रहेगा या फिर इसमें मैचों की संख्या को बढ़ाया जाएगा.

अगर बीबीसीआई महिला टी-20 को बढ़ावा देना चाहता है. तो महिला टी-20 चैलेंज में मैचों की संख्या पर विचार करना चाहिए या कोई फॉर्मेट तैयार करें. जिससे फैंस भी पुरूष आईपीएल की तरह महिला आईपीएल का 1-2 महीने आनंद उठा सकें.