रविचंद्रन अश्विन

एक समय भारतीय टीम के मुख्य स्पिनर रविचंद्रन अश्विन होते थे, लेकिन 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ महंगे साबित हुए. जिसके बाद उन्हें और रविन्द्र जडेजा को टीम से बाहर कर दिया गया था. उसके बाद से आज तक रविचंद्रन अश्विन की सीमित ओवरों के क्रिकेट में वापसी नहीं हो पाई. अब लग रहा है की इस खिलाड़ी का सीमित ओवरों के फॉर्मेट में करियर खत्म हो गया है.

युवा खिलाड़ी कर रहे हैं टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन

रविचंद्रन अश्विन

जब रविचंद्रन अश्विन को टीम से बाहर किया गया. उस समय टीम में युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव को टीम में मौका दिया गया. इन दोनों खिलाड़ियों ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने पहले दौरे से ही अच्छा प्रदर्शन किया. उसके बाद से कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल ने बीच के ओवरों में भारतीय टीम को विकेट निकाल कर दिया है और खुद को एक मैच विनर गेंदबाज के रुप में स्थापित किया है.

इन दोनों खिलाड़ियों के अलावा अब रविन्द्र जडेजा तीसरे स्पिनर के रूप में टीम में अपनी जगह पक्की कर चुके हैं. जडेजा के साथ अब तो टीम में क्रुनाल पंड्या को शामिल करने की बात चल रही है. जिसके कारण रविचंद्रन अश्विन को टीम में वापसी करना बहुत ही मुश्किल है.

विदेशी सरजमीं पर प्रभावी नहीं रहे है रविचंद्रन अश्विन

Ravichandran Ashwin of India bowls during the ICC Champions Trophy match1

बात जब घरेलू मैदानों की हो तो रविचंद्रन अश्विन एक स्पिनर के रूप में प्रभावी होते हैं लेकिन जैसे ही वो विदेशी सरजमीं पर खेलते हैं. उनके स्पिन का जादू नहीं चल पता है. ऐसा ही कुछ अश्विन के साथ 2017 के चैंपियंस ट्रॉफी में देखने को मिला था.

भारत की टीम बीच के ओवरों में विकेट नहीं निकाल पा रही थी. रविचंद्रन अश्विन पिछले कुछ समय से रक्षात्मक गेंदबाजी करते है. आज के क्रिकेट में कप्तान स्पिनर गेंदबाज को विकेट निकलने के लिए प्रयोग करता है. कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल और रविन्द्र जडेजा विदेशी सरजमीं पर भी विकेट निकाल रहे हैं.

कलाई के स्पिनर पर कप्तान को ज्यादा भरोसा 

2019 3image 08 46 016754150odi ll

इस समय भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली कलाई के स्पिनरों पर ज्यादा भरोसा जताते हैं. कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल के अलावा अब राहुल चाहर को टीम का भविष्य कहा जा रहा है.

आने वाले समय में राहुल चाहर भारतीय टीम के लिए खेलते हुए नजर आयेंगे. रविचंद्रन अश्विन की उम्र अब 32 की हो गयी है. जिसके कारण वो 2023 के विश्व कप में टीम का हिस्सा नहीं बन पाएंगे. इसलिए भी युवा खिलाड़ियों को ज्यादा मौका देने का प्रयास किया जायेगा.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *