Man of the match
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

मैन ऑफ द मैच (Man of the match) नाम आते ही दिमाग एक तस्वीर सामने आ जाती है. इस अवार्ड को पाने वाले खिलाड़ी ने कुछ ना कुछ बड़ा कारनामा किया होगा. जिसकी वजह से वो खिलाड़ी मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया. जैसा कि हम मैच के दौरान देखेते हैX.

आज हम इस आर्टिकल में ऐसे मैन ऑफ द मैच (Man of the match) के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. जिन्होंने मैदान पर कोई विकेट ना लिया उसके बावजूद भी उन्हें इस पुरस्कार सम्मानित किया. क्या आपने कभी सोचा है कि किसी खिलाड़ी ने ना तो बल्लेबाजी की और नाही गेंदबाजी की, फिर भी उसे मैन ऑफ द मैच दिया गया.

ये जानकर आपको थोड़ी हैरानी जरूर हुई होगी, लेकिन ये बात सच है. क्रिकेट के मैदान ऐसी कुछ अजीबो गरीब घटनाएं देखी गई है. आइए एक नजर डालते हैं ऐसे ही तीन अजीबो गरीब मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड पर.

ग्राउंड्समैन के लिए मैन ऑफ द मैच

Man of the match for a groundsman

क्रिकेट में कुछ ऐसे पल आते है, जो हमेशा के लिए एक गहरी छाप छोड़ जाते है. क्या आपने कभी सोचा है कि ग्राउंड्समैन मैन ऑफ द मैच (Man of the match) दिया जा सकता है. जी हां ये बात सच है. इतिहास गवाह है दिसंबर 2000 में वांडरर्स में दक्षिण अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड के बीच यह तीसरा टेस्ट था. बारिश ने पहले दिन का खेल खत्म कर दिया.

हालांकि, ग्राउंड्समैन (Groundsmen) क्रिस स्कॉट और उनकी समर्पित टीम ने पानी की निकासी के लिए कड़ी मेहनत की और दूसरे दिन खेल को संभव बनाया. उनके काम को पहचानने के लिए मैच अधिकारियों ने क्रिस स्कॉट को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया. इसलिए कहते क्रिकेट मैच के सुचारू संचालन में ग्राउंड्समैन की बहुत बड़ी भूमिका होती है.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse