Virender Sehwag-Mayank Dagar

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) ने अपने समय में गेंदबाज़ों की खूब पिटाई की है. सहवाग एक आक्रामक सलामी बल्लेबाज़ थे. उन्हें इस बात से बिल्कुल फर्क नहीं पड़ता था कि वह कौन से फॉर्मेट में बल्लेबाज़ी कर रहे हैं. चाहे टेस्ट क्रिकेट हो या T20 सहवाग हमेशा पारी की शुरुआत आक्रामक अंदाज़ से ही करते थे. ऐसे में अब रणजी ट्रॉफी में उनके भांजे भी ऐसा ही कुछ काम करते हुए दिखाई दे रहे हैं. लेकिन सहवाग (Virender Sehwag) बल्लेबाज़ी में तहलका मचाते थे और इनके भांजे ने अपनी घातक गेंदबाज़ी से खलबली मचा रखी है.

Virender Sehwag के भांजे ने रणजी ट्रॉफी में मचाया कहर

Virender Sehwag-Mayank Dagar
Courtesy: Google image

आपको बता दें कि वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) की चचेरी बहन के बेटे मयंक डागर हिमाचल प्रदेश की ओर से रणजी ट्रॉफी खेल रहे हैं. यह भारतीय टीम की अंडर-19 वर्ल्ड कप टीम का भी हिस्सा रह चुके हैं. मयंक एक घातक लेफ्ट आर्म स्पिनर के साथ-साथ बल्लेबाज़ी में भी अच्छा दमखम दिखाने की क्षमता रखते हैं.

रणजी ट्रॉफी में हाल ही में हुए त्रिपुरा और हिमाचल प्रदेश के बीच मैच में, मयंक डागर ने अपनी गेंदबाज़ी से कहर ढा दिया. त्रिपुरा के बल्लेबाज़ों के पास मयंक की गेंदबाज़ी का जवाब नहीं था. मयंक ने त्रिपुरा के खिलाफ कुल 9 विकेट चटकाए हैं और हिमाचल प्रदेश को यह मैच जितवाने में अहम भूमिका निभाई है. हालांकि त्रिपुरा के खिलाफ प्लेयर ऑफ़ द मैच का खिताब कप्तान अंकित कलशी को मिला जिन्होंने ज़बरदस्त शतकीय पारी खेली थी.

पहली पारी में 5 तो दूसरी पारी में झटके 4 विकेट

Mayank Dagar

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज़ वीरेंदर सहवाग (Virender Sehwag) के भांजे मयंक डागर ने रणजी ट्रॉफी में हिमाचल के लिए खेलते हुए त्रिपुरा के खिलाफ अपनी गेंदबाज़ी से सबका दिल जीत लिया है. उन्होंने पहली पारी में कुल 21.2 ओवर के स्पेल में 4 मेडन ओवर के साथ 55 रन देकर 5 विकेट अपने नाम किए हैं. जिसमें 3 विकेट टॉप ऑर्डर बल्लेबाज़ों के थे.

वहीं दूसरी पारी में भी मयंक की गेंदबाज़ी का कहर कम नहीं हुआ. उन्होंने दूसरी पारी में 13.4 ओवर डाले, जिसमें उन्होंने 30 रन देकर 4 विकेट झटकाए और टीम के सबसे कामियाब गेंदबाज़ रहे. ऐसे मयंक ने दोनों परियों को मिलाकर मैच में सिर्फ 85 रन देकर 09 विकेट लिए हैं, जोकि बहुत ही ज़बरदस्त परफॉर्मेंस है.

इसके आलावा अगर मैच की बात करें तो, ग्रुप ए के इस मुकाबले में हिमाचल प्रदर्श ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 365 रन बोर्ड पर लगा दिए. जिसके जवाब में पहली पारी में त्रिपुरा की टीम 202 रन पर ही सिमट गई. इसके बाद त्रिपुरा ने फॉलोऑन खेला, जिसमें उनका प्रदर्शन और भी खराब रहा. दूसरी पारी में त्रिपुरा महज़ 133 रन पर ऑलआउट हो गई. जिसके चलते हिमाचल पारी और 30 रन से मुकाबला जीतने में सफल रही. हिमाचल के कप्तान अंकित कलशी ने पहली पारी में शानदार 147 रन बनाए थे. वहीं राघव धवन ने भी 68 रन की अच्छी पारी खेली थी.