Virat Kohli-ravi shastri

T20 World Cup 2021 के साथ ही भारतीय क्रिकेट में Ravi Shastri व Virat Kohli के युग का भी अंत हो गया। अब T20I की कमान रोहित शर्मा के हाथों में है और रवि शास्त्री को हेड कोच नियुक्त किया गया है। हालांकि क्रिकेट के गलियारों में अभी भी विराट-शास्त्री के कार्यकाल की चर्चा होती ही रहती है। अब विश्व कप विजेता कप्तान कपिल देव का मानना है कि इस जोड़ी ने अच्छा काम किया और उन्हें 100 में से 90 अंक दिए।

Virat Kohli- Ravi Shastri ने किया अच्छा काम

virat kohli ravi shastri kapil dev
virat kohli ravi shastri kapil dev

विराट कोहली ने 2017 में भारत की सीमित ओवर टीम की कमान संभाली थी, वहीं Ravi Shastri को चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के बाद भारत का हेड कोच नियुक्त किया गया था। शास्त्री – कोहली के कार्यकाल की सराहना करते हुए कपिल देव ने कहा,

“मुझे लगता है कि दोनों ने बहुत अच्छा काम किया है। मैं समझता हूं कि वे भारत को एक बड़ी ट्रॉफी नहीं दिला सके लेकिन अगर हम पिछले पांच सालों को देखें, जब से कोहली ने पदभार संभाला है, किसी चीज की कमी नहीं रही। आईसीसी ट्रॉफी की सबसे बड़ी कमी के अलावा ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड में भारत ने जीत हासिल की है… उन्होंने जहां भी यात्रा की है, उन्होंने दूसरी टीम को मात दी है।”

टॉप-4 में नहीं पहुंचने पर होगी ही आलोचना

टी20 विश्व कप 2021 में भारतीय टीम का सफर बहुत ही निराशाजनक रहा। टीम इंडिया इस टूर्नामेंट में सेमीफाइनल तक भी नहीं पहुंच सकी और बाहर हो गई। पूर्व कप्तान ने कहा,

“वर्ल्ड कप नॉकआउट में पहुंचना भी बहुत बड़ी बात है। मुझे लगता है कि वेस्टइंडीज में 2007 वर्ल्ड कप के बाद, यह टी20 वर्ल्ड कप है जहां ऐसा लगा कि भारत निराशाजनक था। अगर वे टॉप 4 में पहुंचते और फिर हार जाते, तो यह समझ में आता है। लेकिन अगर आप टॉप 4 में नहीं पहुँचते हैं तो आलोचना होगी।”

Kapil Dev ने दिए 90 अंक

virat kohli ravi shastri kapil dev
virat kohli ravi shastri kapil dev

Virat Kohli – Ravi Shastri के कार्यकाल के अंतर्गत भारत ने भले ही आईसीसी ट्रॉफी ना जीती हो, लेकिन उन्होंने तमाम सफलताएं हासिल की हैं। ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया में दो बार टेस्ट सीरीज में मात दी, इंग्लैंड में भी टेस्ट सीरीज में 2-1 की बढ़त बनाई और भी कई जीत भारत के नाम रहीं। इसपर Kapil Dev ने कहा,

“अगर आप इसे ट्रॉफी के नजरिए से देखें तो यह बिल्कुल अलग बात है। लेकिन अगर आप उनके क्रिकेट को देखें, जिस ब्रांड को उन्होंने पिछले पांच वर्षों में खेला है, तो मैं उन्हें 100 में से 90 प्रतिशत अंक दूंगा, और आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीतने पर 10 प्रतिशत अंक काट दूंगा।”