विराट कोहली-सरणदीप

भारतीय टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली अक्सर अपने व्यवहार को लेकर चर्चाओं में बने रहते हैं. उनके बर्ताव को लेकर हर कोई अलन ओपियन रखता है, कुछ उन्हें घमंडी मिजाज के क्रिकेटर का नाम देते हैं, तो कुछ उन्हें अग्रेसिव खिलाड़ी कहते हैं, इसी बीच टीम इंडिया के पूर्व चयनकर्ता सरणदीप सिंह ने उनके स्वभाव को लेकर बड़ा खुलासा किया है.

विराट कोहली अक्सर अपने बर्ताव के लिए बटोरते हैं चर्चा

विराट कोहली

दरअसल कई बार मैदान पर विराट कोहली कुछ ऐसा कर जाते हैं, जिसके चलते उन्हें लोगों की आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ता है. खेल के दौरान ज्यादातर समय कोहली का आक्रामक रवैया ही देखने को मिलता है, खासकर विरोधी टीम के खिलाफ जब वो मैदान पर प्रदर्शन करने उतरते हैं, तो उनका पूरा फोकस गेम पर होता है.

इस बाच सरणदीप सिंह ने कोहली के व्यवहार को लेकर बड़ा बयान दिया है, और बताया है कि, आखिर क्यों लोग उन्हें घमंडी और आक्रामक अंदाज में देखते हैं. दरअसल आपने देखा होगा कि, जब मैदान पर कोहली बल्ले से आक्रमण करने या फिर फील्डिंग करते उतरते हैं, तो विरोधी टीम पर पूरी तरह से दबाव बनाने की कोशिश करते हैं.

घमंडी नहीं हैं विराट कोहली- सरणदीप सिंह

विराट कोहली-सरणदीप

कई बार रनों की बरसात करके विराट कोहली सामने वाली टीम के गेंदबाजों और फील्डरों को बुरी तरह से परेशान कर देते हैं, तो कई बार आक्रामक रवैये से अपोजिट टीम को कमजोर करने का प्रयास करते हैं. ये वजह है कि वो क्रिकेट दिग्गजों और फैंस के निशाने पर चढ़ जाते हैं, और लोग अपने दिमाग में विराट कोहली को लेकर गुस्सैल और अच्छे शख्स न होने वाली छवि बना लेते हैं.

इस बारे में एक वेबसाइट से बात करते हुए सरणदीप ने कहा कि,

‘कोहली घमंडी नहीं हैं, वो एक शख्स हैं. मुझे ये नहीं पता कि लोग उनके बारे में क्या धारणा बनाते हैं, लेकिन जब आप उन्हें मैच में देखते हैं, तो वह हमेशा बैटिंग या फील्डिंग के वक्त ऊर्जा से भरे रहते हैं. ये बड़ी वजह है कि, लोगों को ऐसा लगता है कि वह गर्म मिजाज और घमंडी किस्म के शख्स हैं, जो किसी की नहीं सुनते. जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, वो मैदान पर जितने आक्रामक हैं, निजी जिंदगी में उतने ही सुलझे और जमीनी इंसान हैं.’

टीम सलेक्शन के दौरान शांत रहते हैं विराट कोहली- सरणदीप सिंह

विराट कोहली

आगे बात करते हुए सरणदीप ने कहा कि,

‘सलेक्शन मीटिंग के दौरान विराट कोहली काफी शांत रहते थे, और वहां पर मौजूद हर शख्स की बातें ध्यान से सुनते थे. इसके बाद अंतिम फैसला करते थे. टीम से जुड़ा हर खिलाड़ी कोहली का सम्मान करता है. समय पर वो सभी के साथ बैठते हैं, बात करते हैं और डिनर साथ करते हैं. ऐसे में हर खिलाड़ी उनकी रिस्पेक्ट करता है.’