Virat Kohli

IPL 2022 को लेकर लगभग सभी सवालों का जवाब मिल चुका है, लेकिन अभी तक रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने कप्तान की तस्वीर साफ नहीं हो पाई है। फ्रेंचाइजी की दिल और धड़कन विराट कोहली (Virat Kohli) ने पिछले साल कप्तानी से इस्तीफा लेने का ऐलान किया था। तब से लेकर अबतक आरसीबी के नए कप्तान को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। इसी बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर का मानना है कि विराट कोहली (Virat Kohli) आरसीबी के लिए बतौर कप्तान परफेक्ट चॉइस है।

RCB की कप्तानी को लेकर आकाश चोपड़ा का बयान

Aakash Chopra selected 15-member team for T20 World Cup 2022

विराट कोहली (Virat Kohli) रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के सबसे लोकप्रिय फेस है, साल 2008 से विराट इसी फ्रेंचाइजी के साथ आईपीएल खेलते हुए आ रहें हैं। साल 2013 में उन्हें कप्तान बनाया गया और उन्होंने साल 2021 सीजन के बाद आरसीबी की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था। अब फ्रैंचाइजी को कप्तान की तलाश है। लेकिन पूर्व भारतीय खिलाड़ी और मौजूदा समय में क्रिकेट एक्सपर्ट के रूप में नजर आने वाले आकाश चोपड़ा का मानना है कि

“कोहली ने जब आरसीबी की कप्तानी छोड़ी तो उसके बाद टी-20 अंतरराष्ट्रीय से भी भारत की कप्तानी छोड़ दी, विराट ने कहा था कि वह एक दिवसीय और टेस्ट मैचों में भारत का नेतृत्व करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, उन्हें एकदिवसीय कप्तान के पद से हटा दिया गया और बाद में उन्होंने टेस्ट की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया। अब वह कप्तान नहीं हैं, केवल एक ही टूर्नामेंट हैं जहां उन्हें नेतृत्व करना है।”

RCB को Virat Kohli के पास नहीं जाना चाहिए

virat kohli

इसके साथ ही आकाश चोपड़ा का कहना है कि बैंगलोर विराट कोहली  (Virat Kohli) को कप्तानी के लिए मना सकती है, लेकिन फ्रैंचाइजी को ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि कप्तानी छोड़ने का फैसला विराट का खुद का था। इस भार से मुक्त होने के बाद विराट बतौर बल्लेबाज बेहद घातक साबित हो सकते हैं। विराट कोहली (Virat Kohli) और आरसीबी का जुड़ाव एमएस धोनी और CSK जैसा है, लेकिन अब आरसीबी को विराट के पास कप्तानी के लिए नहीं जाना चाहिए,  उन्होंने कहा कि

“विराट को कप्तान बनाना चाहिए, मैं ऐसा नहीं सोचता हूं, अगर विराट ने ऐसा सोच लिया है तो उन पर बोझ न डालें। यह वास्तव में आरसीबी के लिए अच्छी बात हो सकती है. वह अब अधिक स्वतंत्रता के साथ बेखौफ होकर बल्लेबाजी कर सकते हैं। पिछले कई वर्षों में उन्हें काफी दबाव का सामना करना पड़ा है। इसलिए मुझे व्यक्तिगत रूप से लगता है कि आरसीबी को विराट के पास वापस नहीं जाना चाहिए।