virat kohli
virat kohli

T20 World Cup 2021 में भारतीय क्रिकेट टीम ने अपने आखिरी मुकाबले में नामिबिया को 9 विकेट से हराकर शानदार जीत दर्ज की। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने सम्मानपूर्वक टूर्नामेंट से विदाई ली। ये मैच Virat Kohli का T20I कप्तान के रूप में आखिरी मैच रहा। मैच खत्म होने के बाद विराट कोहली ने एक बार फिर वर्कलोड को ही कप्तानी छोड़ने का कारण बताया। साथ ही उन्होंने सपोर्ट स्टाफ का भी शुक्रिया अदा किया, जिनका कार्यकाल टूर्नामेंट के साथ ही खत्म हो रहा है।

Virat Kohli ने वर्कलोड को फिर बताया कारण

Virat Kohli

नामिबिया के खिलाफ T20I World Cup 2021 में 9 विकेट से जीत के साथ ही Virat Kohli का T20I कप्तानी का सफर खत्म हो गया है। विराट ने पोस्ट मैच प्रेजेंटेशन में अपने कप्तानी छोड़ने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा,

“सबसे पहले राहत (टी20ई कप्तानी छोड़ने पर)। यह एक सम्मान की बात है लेकिन चीजों को सही प्रोस्पेक्टिव में रखने की जरूरत है। मुझे लगा कि यह मेरे वर्कलोड को मैनेज करने का सही समय है। छह-सात साल हो गए हैं भारी काम का बोझ और बहुत दबाव है। लोग शानदार रहे हैं, मुझे पता है कि हमें यहां रिजल्ट नहीं मिले हैं लेकिन हमने वास्तव में कुछ अच्छा क्रिकेट खेला है।”

शुरुआती दो मैचों में बताया हार का कारण

T20 World Cup 2021 में Virat Kohli की टीम के सफर की शुरुआत अच्छी नहीं रही, क्योंकि टीम इंडिया को पहले पाकिस्तान ने 10 विकेट से हराया और फिर न्यूजीलैंड के हाथों भारत 8 विकेट से हार गया। उन दो मैचों को हारने के बाद भारत ने लगातार तीनों मैचों को जीता, लेकिन बदकिस्मती से वह सेमीफाइनल तक का सफर तय नहीं कर सके। शुरुआती मैचों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा,

“जिस तरह से हमने पिछले तीन मैच खेले हैं, वह मार्जिन का खेल है, आज के समय में टी20 क्रिकेट में। टॉप पर 2 ओवर अटैकिंग क्रिकेट को हमने शुरुआती दो मैचों में मिस कर दिया। जैसा कि मैंने पहले भी कहा, हम उन दोनों ही मैचों में पर्याप्त बहादुर नहीं थे और जिस समूह में हम थे, वह मुश्किल था।”

सपोर्ट स्टाफ को कहा शुक्रिया

Team India, virat kohli

Team India के हेड कोच Ravi Shastri, फील्डिंग कोच आर श्रीधर, गेंदबाजी को भरत अरुण का भी कार्यकाल खत्म हो गया है। Virat Kohli ने सपोर्ट स्टाफ का शुक्रिया अदा करते हुए कहा,

“उन सभी लोगों (रवि शास्त्री और उनके सहयोगी स्टाफ) को बहुत-बहुत धन्यवाद। इन लोगों ने वाकई मेरा काम आसान कर दिया है। उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में बहुत अच्छा काम किया है, जिससे खिलाड़ियों के लिए ऐसा अद्भुत वातावरण तैयार किया गया है। लोग माहौल में वापस आना पसंद करते थे। उन्होंने वास्तव में बहुत अच्छा काम किया है। वह (उनकी आक्रामकता) कभी नहीं बदलने वाली है। जिस दिन ऐसा होगा, मैं क्रिकेट खेलना बंद कर दूंगा। कप्तान बनने से पहले भी, मैंने हमेशा किसी न किसी तरह से योगदान देना पसंद किया है। इस विश्व कप में सूर्या को ज्यादा मैच का समय नहीं मिला, इसलिए मैंने सोचा कि इसे मौका देना सही विचार होगा।”