शुभमन गिल

भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही चार मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच कल यानि 24 फरवरी से शुरु होने वाला है। डे-नाइट टेस्ट मैच को लेकर सभी काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं। अब भारतीय कप्तान विराट कोहली ने भी प्री मैच कॉन्फ्रेंस में तीसरे मैच को लेकर टिप्पणी की है। विराट ने साफ कर दिया है कि उन्हें किसी भी बात की चिंता नहीं है इंग्लैंड की क्या मजबूती है या क्या कमजोरी है।

इंग्लैंड की ताकत को लेकर नहीं हूं परेशान

विराट कोहली

भारत-इंग्लैंड दोनों के बीच सीरीज रोमांचक स्तर पर पहुंच चुकी है। पिंक बॉल से खेला जाने वाला तीसरा टेस्ट मैच दोनों ही टीमों के लिए जीतना अहम होने वाला है क्योंकि यहां से आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप का रास्ता भी तय हो रहा है। विराट कोहली ने प्री मैच कॉन्फ्रेंस में एनआई को जवाब देते हुए कहा,

“अब हम वर्षों से जो कर रहे हैं, वह अच्छा क्रिकेट खेलते हैं। हमारा ध्यान केवल हमारी टीम पर रहता है। मैं वाकई में इस बात से बिल्कुल परेशान नहीं हूं कि इंग्लैंड की टीम की क्या ताकत है या उसकी क्या कमजोरी है। हमने उन्हें उनके घर में भी हराया है जहां तेज को अधिक गति मिलती है। हम सिर्फ एक टीम के रूप में अच्छा खेलना चाहते हैं। और हां मेहमान टीम में कई कमजोरियां हैं, जिन्हें हम एक्सप्लॉइट करना चाहते हैं।”

हमारे पास है विश्व का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी इकाई

24 फरवरी से शुरु हो रहे डे-नाइट टेस्ट मैच की पिच को लेकर लगातार चर्चा हो रही है। माना जा रहा है कि पिंक बॉल टेस्ट में पेसर्स के लिए मदद रहने वाली है। इसपर कप्तान विराट कोहली ने कहा,

“अगर ट्रैक तेज गेंदबाजों के लिए मददगार है, तो यह हमारे लिए भी है और हमारे पास विश्व क्रिकेट का सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रामण मौजूद है। इसलिए वास्तव में परेशान नहीं होना चाहिए कि गेंद पिच पर कैसा बर्ताव करती है। हम हर चुनौती के लिए तैयार हैं, जो हमारे रास्ते में आती है।”

कभी-कभी चीजें आपके कंट्रोल में नहीं होती

विराट कोहली

एक तरफ भारतीय क्रिकेट टीम ने पिछला डे-नाइट टेस्ट ऑस्ट्रेलिया के साथ खेलते हुए शर्मनाक तरीके से गंवाया था, जहां भारत दूसरी पारी में 36 के न्यूनतम स्कोर पर सिमट गया। तो वहीं इंग्लैंड की टीम भी 2018 में न्यूजीलैंड के साथ डे-नाइट टेस्ट में 58 रन पर सिमट गई थी। इसपर कोहली ने कहा,

“दोनों ही क्वालिटी टीम हैं। यदि आपने इंग्लैंड से एक ही सवाल पूछा है (कि आपको 58 रन देकर आउट किया जाएगा), तो उनका जवाब नहीं होगा। आप समझते हैं कि कभी-कभी चीजें एक निश्चित तरीके से होती हैं, तो कभी-कभी ये चीजें आपके कंट्रोल से बाहर हो जाती हैं और कुछ भी सही नहीं लगता है और एडिलेड में हमारे साथ वास्तव में कुछ ऐसा ही हुआ है। 45 मिनट के खराब क्रिकेट ने मैच से हमें बाहर कर दिया।”