I feel lonely even in a crowd of people.. Virat Kohli's statement on mental health

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) लंबे ब्रेक के बाद एशिया कप में उतरने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं. इसके लिए इन दिनों वो जिम में जमकर पसीना भी बहा रहे हैं. लेकिन, उन पर अच्छे प्रदर्शन का खासा दबाव है और इसका अंदाजा लगा पाना मुश्किल नहीं है. पिछले ढाई सालों से आउट ऑफ फॉर्म चल रहे विराट कोहली ने खुद अब इस बात को स्वीकार किया है कि वो प्रेशर महसूस कर रहे हैं और इतनी भीड़ होने के बाद भी अकेला महसूस करते हैं. उनके इस हालिया बयान ने लोगों को पूरी तरह से झकझोर कर रख दिया है. इस बारे में विराट कोहली (Virat Kohli) ने और क्या कुछ कहा है आइये जानते हैं.

मेंटल हेल्थ पर पूर्व कप्तान Virat Kohli ने किया चौंकाने वाला खुलासा

 Virat Kohli on mental health

दरअसल वेस्टइंडीज के खिलाफ मिले ब्रेक के बाद विराट कोहली अब सीधा एशिया कप में पाकिस्तान के खिलाफ उतरेंगे. लेकिन उन्होंने इससे पहले अपने मानसिक स्वास्थ्य पर बड़ा बयान दिया है. उनका कहना है कि ‘मुझे सपोर्ट करने वाले लोग भी अगर एक कमरे में होते हैं इसके बाद भी मैं अकेला महसूस करता हूं.’

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने एक इंटरव्यू में इस बारे में बातचीत करते हुए कहा,

“एक खिलाड़ी के लिए सबसे अहम उसका खेल होता है, जो उसे सर्वश्रेष्ठ बनाता है. लेकिन, आप जिस दवाब में है वह आपके मानसिक स्वास्थ पर बुरा असर डालता है. यह एक गंभीर मसला है. जितना हम हर समय मजबूत रहने की कोशिश करते हैं, उतना ही ये आपको अलग कर देता है.”

किसी भी शख्स के आंतरिक मन की स्थिति को जानना बहुत जरूरी है

Virat Kohli

इस सिलसिले में आगे बात करते हुए विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा, अगर आप अपने खेल से कनेक्शन खो देते हैं तो आपके आसपास की चीजों को खत्म होने में ज्यादा वक्त नहीं लगता. आपको यह सीखना चाहिए कि अपने वक्त को किस तरह से बिताएं ताकि संतुलन बना रहे. इतना ही नहीं पूर्व कप्तान ने यह भी कहा कि किसी भी व्यक्ति के मन में क्या कुछ चल रहा इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है.