कुलदीप यादव-कोच

भारत-इंग्लैंड के बीच चेन्नई में चल रहा पहला टेस्ट मैच खत्म होने के बाद विराट कोहली ने कुलदीप यादव को लेकर बड़ा बयान दिया है. 227 रन लंबे अंतराल से मिली शर्मनाक हार के बाद टीम इंडिया को आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ रहा है. प्लेइंग 11 को लेकर तो लोग टीम को ट्रोल कर ही रहे हैं, साथ ही शीर्ष बल्लेबाजों के खराब प्रदर्शन के बाद भी दर्शकों का गुस्सा फूट पड़ा है.

विराट कोहली ने दिया बयान

विराट कोहली

4 मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला इंग्लैंड ने भारत को उसी की सरजमीं पर हराकर 1-0 से बढ़त बना ली है. ऐसे में अब कोहली ने मेहमान टीम की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं, साथ ही गेंदबाजों को लेकर बड़ी बात भी कह दी है. दरअसल पहले मैच में लोगों ने उम्मीद जताई थी, कि अक्षर पटेल के चोटिल होने के बाद कुलदीप को जगह मिलेगी.

लेकिन ऐसा हुआ नहीं, अक्षर की जगह टीम में शाहबाज नदीम को कोहली ने उतारने का फैसला किया, जिसके चलते उन्हें जमकर निंदा का सामना करना पड़ा. यहां तक पूरे मैच में नदीम जूझते हुए देखे गए. इस वजह से फैंस का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया. लेकिन विराट को अपने फैसले पर पछतावा नहीं है. भारत की तरफ से तेज गेंदबाज में बुमराह, इशांत शर्मा, और स्पिनर के तौर आर अश्निन वाशिंगटन सुंदर को शामिल किया गया था.

कुलदीप को टीम से बाहर करने का कोई पछतावा नहीं- विराट कोहली

विराट कोहली

हालांकि मैच खत्म होने के बाद विराट कोहली ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए बाएं हाथ के शानदार गेंदबाज कुलदीप यादव को प्लेइंग 11 से बाहर करने को लेकर बड़ा बयान दिया है, साथ ही उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि, ये निर्णय लेने के लिए उन्हें किसी तरह का पछतावा नहीं है, साथ उन्होंने इसकी वजह भी बताई है.

विराट कोहली ने अपने बयान में कहा कि,

‘वास्तव में बिल्कुल ऐसा नहीं है. जब आप 2 ऑफ-स्पिनर खिलाते हैं, तो कुलदीप कमोबेश उसी तरह की गेंदबाजी के लिए विकल्प बन जाते हैं, आपको गेंदबाजी आक्रमण में विविधता चाहिए. इसलिए हम उस योजना पर काफी स्पष्ट थे जिसे हम खिलाना चाहते थे’.

आगे गेंदबाजी की विविधिता के हिसाब से करेंगे फैसला-विराट कोहली

विराट कोहली-कुलदीप

आगे बात करते हुए विराट ने साफ किया कि,

‘मुझे कुलदीप को लेकर लिए गए फैसले पर किसी तरह का कोई पछतावा नहीं है. आगे बढ़ते हुए, हम उन फैसलों के बारे में विचार करेंगे, जो हमें गेंदबाजी आक्रमण में विविधता देनें में सहायक साबित होगा. क्योंकि कोई पैमाना तय नहीं है, इस वजह से यह चीजें काफी ज्यादा जरूरी हैं, जो आगे बढ़ रही हैं’.