virat kohli

भारतीय टीम  के बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) ने आज अपना 100वां टेस्ट मैच खेला, लेकिन वो इस खास मौके पर बड़ी पारी खेलने से चूक गये. विराट कोहली पिछले दो सालो से कोई शतकीय पारी नहीं खेल पाए थे. जिसके बाद विराट कोहली की फॉर्म पर सवाल खड़े किये जा रहे है. कोहली कप्तानी छोड़ने के बाद कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की कप्तानी में पहला मैच टेस्ट खेला. श्रीलंका के खिलाफ मोहाली में पहला टेस्ट मैच खेला. पहले दिन का मैच खत्म होने के बाद बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) का बड़ा बयान सामने आया है.

100वां टेस्ट खेलने के बाद बोले Virat Kohli

Virat-Kohli- team india

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) 100वां टेस्ट मैच खेला. वो 100वां टेस्ट मैच खेलने वाले दुनिया के 12वें खिलाड़ी बन गये. इस खास मौके पर आज उन्हें भारतीय टीम के बैटिंग कोच राहुल द्रविड़ ने उन्हें 100वां टेस्ट कैप देकर सम्मानित किया. आज के मैच में उनसे बड़ी पारी की उम्मीद थी लेकिन विराट कोहली 45 रन बनाकर चलते बने. पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद विराट कोहली रिएक्शन सामने आया. विराट कोहली ने कहा कि,

“मैं कभी भी माइलस्टोन के के लिए चिंता नहीं करता हूं, मैं लगातार स्कोर कर रहा हूं और महत्वपूर्ण साझेदारियों का हिस्सा हूं। 100 वां टेस्ट मैच भी मेरे लिए एक मैच जैसा ही है, जो आज से शुरु हो गया है, मुझे इस बात पर गर्व है, कि मैंने चोट के चलते कुछ ही टेस्ट मैच मिस किए हैं।”

शतक के सूखे से जूझ रहे हैं Virat Kohli

virat kohli

भारतीय टीम के स्टाक बल्लेबाज विराट कोहली (Virat Kohli) इस वक्त निराशाजनक फॉर्म के चलते आलोचकों के निशाने पर हैं. विराट कोहली ने पिछले दो साल में शतक नहीं जड़ा है. आखिरी बार नवंबर 2019 में उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट में शतक बनाया था. जिसके बाद से विराट को बल्ले से अर्धशतक तो निकले पर वो शतक बनाने में सफल नहीं हो पाए.

भारतीय फैंस काफी दिनों से उनके 71 वें शतक का इंतजार कर रहे हैं. इस बात कोहली खुद भी जानते है. मैदान पर खेलते समय कोहली भी, कही ना कही इस बात पर विचार करते होंगे कि वो शतकीय पारी नहीं खेल पा रहे हैं. विराट पर मानसिक दबाव तो होगा. जिसकी वजह से उनके बल्ले से रन नहीं निकल रहे हैं.  पिछले 21 महीने से उनका बल्ला शांत ही रहा है. इस दौरान वे तीनों फॉर्मेट यानी टेस्ट, वनडे और टी20 की 49 पारी में एक भी शतक नहीं लगा सके.