kohli lords

भारत और इंग्लैंड के बीच चल रही पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला का नॉटिंघम में खेला गया पहला मैच ड्रा रहा था और लॉर्ड्स में खेला गया दूसरा मैच भारत ने जीतकर 1-0 की बढ़त ले ली है। इस जीत के साथ ही विराट कोहली (Virat Kohli) भारतीय कप्तानों की एक विशिष्ट सूची में शामिल हो गए। भारत ने दूसरे टेस्ट में इंग्लैंड को 151 रनों से हराकर लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर अपनी तीसरी जीत दर्ज की। बता दें कि कोहली इस ऐतिहासिक मैदान पर टेस्ट जीतने वाले कपिल देव और एमएस धोनी के बाद तीसरे कप्तान बन गए हैं।

 Virat Kohli ने क्लाइव लॉयड को पीछे छोड़ा

Michael Vaughan virat kohli

लॉर्ड्स के मैदान पर भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने जीत दर्ज करने के बाद उन्होंने टेस्ट इतिहास में चौथे सबसे सफल कप्तान बनने के लिए विशेष सूची में अपना नाम जोड़ लिया है। कोहली ने अपने कप्तानी करियर की 37वीं टेस्ट जीत के साथ वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान क्लाइव लॉयड को पीछे छोड़ दिया और अब वह केवल ग्रीम स्मिथ (53 जीत), रिकी पोंटिंग (48 जीत) और स्टीव वॉ (41 जीत) से ही पीछे हैं। वैसे आपको बता दें कि विराट कोहली से पहले कपिल देव ने पहली बार 1986 में यह उपलब्धि हासिल की, इसके बाद धोनी की टीम ने 2014 में भारत को जीत दिलाई थी।

एक नजर डालते हैं Virat Kohli से पहले भारत की पिछली दो जीतों पर

1. 1986 (भारत 5 विकेट से विजयी)

kapil dev lords

1986 में कपिल देव ने इंग्लैंड में एक मजबूत भारतीय टीम का नेतृत्व किया और इंग्लैंड को 2-0 से हराकर श्रृंखला को जीत लिया था। इस सीरीज की पहली जीत लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर थी, जिसमें चेतन शर्मा ने पहली पारी में पांच विकेट लिए और कपिल देव ने दूसरी पारी में 4 विकेट लेकर इंग्लैंड को हरा दिया था। पहली पारी में दिलीप वेंगसरकर की नाबाद 126 रनों की पारी भी मैच के मुख्य आकर्षण में से एक थी क्योंकि भारत ने क्रिकेट के मक्का में अपनी पहली जीत के लिए सिर्फ 5 विकेट खोये थे।

2. 2014 (भारत की 95 रनों से जीत)

dhoni lords

एमएस धोनी ने 2014 में पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में भारतीय टीम का नेतृत्व किया था और 1986 के बाद पहली बार लॉर्ड्स में जीत हासिल कर मेजबान टीम को पहला झटका दिया था। पहला टेस्ट नॉटिंघम में ड्रॉ हुआ था जिसके बाद दोनों टीमों ने लॉर्ड्स में जीत दर्ज करने के लिए हरसम्भव कोशिश की। मैच में अजिंक्य रहाणे ने भारतीय टेस्ट इतिहास के बेहतरीन शतकों में से एक बनाया और जेम्स एंडरसन व स्टुअर्ट ब्रॉड की स्विंग गेंदबाजी के खिलाफ गजब की बल्लेबाजी की थी। इस ही मैच में इशांत शर्मा ने रिकॉर्ड 7 विकेट लिए, जिसकी मदद से भारत ने इंग्लैंड को 223 रनों पर आउट कर दिया था।