Virat Kohli

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और स्टाइलिश बल्लेबाज़ विराट कोहली (Virat Kohli) का बल्ला काफी लंबे समय से खामोश है. इंटरनेशनल क्रिकेट के बाद अब कोहली आईपीएल 2022 में भी रन बनाने के लिए जूझते हुए नज़र आ रहे हैं. विराट इस सीज़न आईपीएल में 3 बार गोल्डन डक पर आउट भी हुए हैं. उनके रन बनाने की औसत और स्ट्राइक रेट भी काफी मामूली सा रहा है. अब कोहली (Virat Kohli) की फॉर्म सिर्फ इंडियंस फैंस के लिए ही नहीं बल्कि बीसीसीआई के लिए भी चिंता का विषय बन गई है. ऐसे में एक बोर्ड के अधिकारी ने कोहली की फॉर्म पर बड़ा बयान दिया है.

Virat Kohli को लेकर BCCI के अधिकारी ने दिया बड़ा बयान

Virat Kohli

आरसीबी के पूर्व कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के फॉर्म को लेकर कई दिग्गज खिलाड़ी और क्रिकेट एक्सपर्ट अपनी-अपनी राय दे रहे हैं. हालांकि हर कोई सिर्फ उनको बैक ही कर रहा है. अब तक किसी ने उनकी खराब फॉर्म को लेकर आलोचना नहीं की है. इसी के साथ अब बीसीसीआई के एक अधिकारी ने भी विराट को बैक किया है. उन्होंने कहा है कि विराट कोहली अभी भी रन बनाने के लिए भूखे हैं. लेकिन टाइम उनका साथ नहीं दे रहा है. बोर्ड के अधिकारी ने कहा,

“विराट कोहली बिल्कुल ठीक हैं, सिर्फ कुछ वक्त से बल्ला उनका साथ नहीं दे रहा है. विराट कोहली अभी भी रनों के लिए भूखे हैं, लेकिन वक्त अभी उनके साथ नहीं है. हर प्लेयर इस तरह के फेज़ से गुज़रता है, ऐसे में विराट कोहली को वक्त दिया जाना चाहिए.”

“यह पूरी तरह से विराट कोहली और सेलेक्टर्स पर निर्भर करता है”

Virat Kohli

आपको बता दें कि आईपीएल 2022 समाप्त होने के बाद जून में भारतीय टीम 5 मैचों की T20I सीरीज़ के लिए दक्षिण अफ्रीका की मेज़बानी करने वाली है. सीरीज़ का आगाज़ 09 जून से होगा. जिसमें विराट कोहली (Virat Kohli) की फॉर्म को देख कर उनके चयन पर भी सवाल उठाए जाने लगे हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि विराट कोहली शायद साउथ अफ्रीका के खिलाफ आगामी T20 सीरीज़ से ब्रेक ले सकते हैं जिस पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा कि,

“यह पूरी तरह से विराट कोहली और सेलेक्टर्स पर निर्भर करता है. अगर विराट कोहली को रेस्ट चाहिए, तो वह इस बारे में सेलेक्टर्स से बात करेंगे.”

इसी के साथ सेलेक्टर्स कमेटी के एक मेंबर ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि,

“टीम के अनाउंसमेंट से पहले विराट कोहली से जरूर बात होगी, क्योंकि सेलेक्टर्स को टीम के लिए भी सोचना है.”