9kdca99g vijay shankar

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी विजय शंकर (Vijay Shankar) आईसीसी विश्व कप 2019 में भारतीय टीम का हिस्सा थे। मगर इंजर्ड होने के चलते उन्हें वापस भारत लौटना पड़ा था। लेकिन इसके बाद खिलाड़ी फिट हुआ और अच्छा प्रदर्शन करने में भी सफल रहा। लेकिन उन्हें टीम में वापसी करने का मौका नहीं मिल सका। अब शंकर का कहना है कि अच्छे प्रदर्शन के बाद भी टीम में वापस मौका नहीं मिला।

अच्छे प्रदर्शन के बाद भी नहीं हो सकी वापसी

vijay shankar

2 साल पहले की बात करें, तो विजय शंकर (Vijay Shankar) को टीम इंडिया के चयनकर्ताओं की पहली पंसद माना जा रहा था। जी हां, विश्व कप टीम में अंबाती रायडू की जगह शंकर को 3D प्लेयर बताकर स्क्वाड में शामिल किया गया था। मगर जब वह चोट के चलते बाहर हुए, उसके बाद आज तक उनकी टीम में वापसी नहीं हो सकी है। इंडिया टुडे को दिए एक इंटरव्यू में विजय शंकर ने कहा,

“भारतीय टीम में चयन मेरे हाथ में नहीं है। मैं यही कर सकता हूं कि अच्छी तैयारी करूं और जो भी मैच खेलूं उसमें अपना बेस्ट दूं। मैं टीम में जगह बनाने के लिए ज्यादा मेहनत कर सकता हूं। हर कोई टीम इंडिया की जर्सी को दोबारा पहनना चाहेगा, इसमें कोई शक ही नहीं है। मेरा ये मानना है कि जब मैंने अच्छा प्रदर्शन किया तो उसके बाद भी मेरे नाम पर विचार नहीं किया गया। ये थोड़ा निराशाजनक था।”

मैंने ज्यादातर खिलाड़ियों से बेहतर किया

विजय शंकर का कहना है कि वह मौजूदा भारतीय टीम का हिस्सा ज्यादातर खिलाड़ियों से अच्छा प्रदर्शन किया है। इस बात का दावा करते हुए Vijay Shankar ने कहा,

 “मैं सिर्फ टीम में इसलिए नहीं जाना चाहता क्योंकि मैं एक ऑलराउंडर हूं जो कि बल्लेबाजी और गेंदबाजी कर सकता है। टीम में जगह बनाने का कारण पुख्ता होना चाहिए। मैं चाहता हूं कि लोग मुझपर भरोसा करें और मुझे टीम में चुनें। मैंने पहले भी कहा है कि मुझे तुलना करना पसंद नहीं। लेकिन अगर आप तुलना करेंगे तो मुझे लगता है कि मैंने ज्यादातर खिलाड़ियों से बेहतर प्रदर्शन किया है।”

लगातार पड़ेगा लड़ना

vijay shankar

विजय शंकर ने पिछले साल घरेलू क्रिकेट में वापसी करते हुए अच्छा प्रदर्शन किया और फिर आईपीएल में भी सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से खेलते नजर आए। शंकर ने आगे कहा,

“निजी तौर पर अगर आप मुझसे पूछें तो निराश होने से आप उम्मीद नहीं छोड़ते हैं। आपको लगातार लड़ना होता है और खुद को प्रेरित करना होता है। मैं जहां भी खेलूं अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। यही मेरे लिए सबसे अहम है।”