आईपीएल दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिकेट लीग है आईपीएल के जरिये कई खिलाड़ियों का करियर चमका है, लेकिन आज हम आपकों अपने इस खास लेख में आईपीएल इतिहास के पांच ऐसे खिलाड़ियों के नाम बताएंगे, जो सिर्फ एक आईपीएल में ही चमक पाये और आईपीएल के बाकि सीजन में वह अच्छा प्रदर्शन करने में नाकामयाब रहे.

पॉल वल्थाटी 

साल 2011 के आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलते हुए पॉल वल्थाटी ने चेन्नई सुपर किंग की टीम के खिलाफ एक यादगार शतक था. उनके इस शतक को आज भी आईपीएल के सबसे यादगार शतकों में से एक माना जाता है.

उन्होंने चेन्नई के खिलाफ 63 गेंदों पर 120 रन का विस्फोटक शतक लगाया था, उन्होंने आईपीएल 2011 में 35.61 की शानदार औसत से 463 रन बनाये थे, लेकिन वह इस आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करने के बाद साल 2012 के आईपीएल में कुछ खास नहीं कर पाये और उसके बाद तो वह आईपीएल से गुमनाम ही हो गये थे.

स्वप्निल असनोदकर

आईपीएल 2008 में राजस्थान के लिए खेले स्वप्निल असनोदकर ने आईपीएल 2008 में 9 पारियों में 34.55 की शानदार औसत और 133.47 के स्ट्राइक रेट से 311 रन बनाये थे, लेकिन इसके बाद के आईपीएल में वह कुछ खास नहीं कर पाये.

श्रीनाथ अरविन्द

आरसीबी के लिए खेलते हुए श्रीनाथ अरविन्द ने भी शानदार गेंदबाजी का नमूना पेश किया था. श्रीनाथ अरविन्द ने आईपीएल 2011 के 13 मैचों में 8 की इकॉनामी व 13.14 के स्ट्राइक रेट से 13 विकेट लिए थे, लेकिन उस सीजन के बाद से वह अबतक कोई भी सीजन में कुछ खास नहीं कर पाये  है.

मनप्रीत गोनी 

साल 2008 के आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग के लिए मनप्रीत गोनी ने शानदार प्रदर्शन किया था और उन्होंने 16 मैचों में 17 विकेट लिए थे. जिसके चलते भारतीय टीम से भी खेलने का मौका मिला था, लेकिन वह भी आईपीएल 2008 के बाद कभी भी अपना जलवा नहीं दिखा सके.

सौरभ तिवारी 

आईपीएल 2010 में मुंबई इंडियन के लिए खेलते हुए सौरभ तिवारी ने शानदार प्रदर्शन किया था और 30 की औसत व 135.59 के स्ट्राइक रेट से 419 रन बनाये थे, लेकिन वह भी आईपीएल 2010 के बाद कभी भी अपना जलवा नहीं दिखा सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here