Parvez Rasool 1280x720 1

हर क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ी का सपना होता है कि वह एक दिन अपने देश के लिए खेले। इसके लिए वह दिन रात मेहनत भी करता है। जब इन्हें देश के लिए खेलने का मौका मिलता है तो कई इस मौकें का पूरा फायदा उठाते हैं, तो कई इस मौके को खो देते हैं। भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए इतने दावेदार हैं कि एक बार बाहर हुए खिलाड़ी के लिए वापसी लगभग नामुमकिन ही हो जाती है।

आज हम आपको 5 ऐसे ही खिलाड़ी के बारे में बताएँगे जिन्हें हालिया समय में भारत के लिए डेब्यू का मौका तो मिला लेकिन जल्द ही गायब हो गये।

#5 परवेज रसूल

jpeg

भारत के लिए खेलने वाले जम्मू कश्मीर के पहले खिलाड़ी परवेज रसूल को 2014 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे डेब्यू करने का मौका मिला था। उस मैच में उन्होंने दो विकेट लिए लेकिन फिर कभी वनडे खेलने का मौका नहीं मिला। 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ कानपूर में टी-20 इंटरनेशनल में डेब्यू करने का मौका मिला लेकिन यही उनका अंतिम मैच भी निकला।

#4 श्रीनाथ अरविन्द

sa

आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के लिए शानदार प्रदर्शन करने वाले श्रीनाथ अरविन्द को 2015 में भारत के लिए डेब्यू करने का मौका मिला। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ धर्मशाला में टी-20 इंटरनेशनल मैच खेला था। उस मैच में उन्होंने 22 गेंद में 44 रन दे दिए। इसके बाद उन्हें कभी भारत के लिए खेलने का मौका नहीं मिला।

#3 ऋषि धवन

dc Cover 20160118132834.Medi

घरेलू मैचों में हिमाचल प्रदेश और आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए अच्छे प्रदर्शन के बाद ऋषि धवन को 2016 ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय वनडे टीम में जगह मिली। उन्हें वहां तीन मैच खेलने का मौका मिला। इन मैचों में उन्होंने सिर्फ 12 रन बनाये और एक विकेट लिया। उसी साल उन्हें जिम्बाब्वे के खिलाफ टी-20 डेब्यू का भी मौका मिला लेकिन उसके बाद फिर भारतीय टीम में जगह नहीं मिली।

#2 संदीप शर्मा

Sandeep Sharma

आईपीएल में अपनी स्विंग गेंदबाजी से सभी को प्रभावित करने वाले संदीप शर्मा को 2015 में ज़िम्बाब्वे दौरे पर टी-20 डेब्यू करने का मौका मिला था। उस सीरीज के दो मैचों में उन्होंने 10 से ज्यादा की इकॉनमी से रन खर्च किये। उनके बाद उन्हें फिर कभी भारतीय टीम के लिए खेलने का मौका नहीं मिला।

#1 पवन नेगी

04pawan negi1

आईपीएल में चेन्नई सुपर के लिए शानदार प्रदर्शन करने वाले पवन नेगी ने गेंद और बल्ले दोनों से धमाल मचाया था। घरेलू मैचों में भी उनका प्रदर्शन शानदार था और इसी वजह से एशिया कप 2016 में उन्हें यूएई के खिलाफ डेब्यू करने का मौका मिला। उसके बाद उन्हें फिर कभी टीम इंडिया में खेलने का मौका नहीं मिला.