भारतीय टीम

भारतीय टीम में ऐसा अक्सर देखने को मिलता है कि, कई क्रिकेटर टीम के साथ विदेशी दौरे पर जाते हैं। लेकिन उन्हें टीम के प्लेइंग इलेवन में शामिल होने का मौका नहीं मिलता है। ऐसा कई बार देखने को मिल चुका है जबकि टीम में कई ऐसे भी खिलाड़ी शामिल हैं जो लंबे समय से टीम का हिस्सा है, लेकिन अब तक उन्हें डेब्यू करने का मौका नहीं मिला।

इसी क्रम में आज हम बात करेंगे साल 2020 के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल चार ऐसे खिलाड़ियों के बारे में जो टीम इंडिया के साथ घूमते रह गए लेकिन उन्हें प्लेइंग इलेवन का हिस्सा नहीं बनाया गया। उन खिलाड़ियों के साथ ऐसा भेद भाव देखकर भारतीय फैंस ने टीम के कप्तान विराट कोहली को इसका जिम्मेदार ठहराया।

शुभमन गिल

भारतीय टीम

भारतीय टीम के युवा क्रिकेटर शुभमन गिल लंबे समय से भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा है। लेकिन अब तक उन्हें टीम में डेब्यू करने का मौका नहीं मिला। साल 2020 के शुरुआत में जब भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड दौरे पर गई थी। उस दौरान भी गिल टीम में शामिल थे और उन्होंने न्यूजीलैंड ए के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करते हुए शतक भी लगाया था।

उनके प्रदर्शन को देखते हुए यह उम्मीद जताई गई थी की वह टेस्ट टीम में खेलते नजर आएंगे। लेकिन विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम मैनेजमेंट ने उन्हें बेंच पर बिठाना ही सही समझा। अब शुभमन गिल भारतीय टेस्ट टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि क्या विराट कोहली उन्हें आगामी टेस्ट सीरीज में टीम की प्लेइंग इलेवन में मौका देंगे।

श्रीकर भरत

ks bharat

भारतीय टीम और न्यूजीलैंड के बीच साल 2020 के शुरुआती में हुई तीन वनडे मैचों की सीरीज के दौरान, श्रीकर भरत को एक बैकअप विकेटकीपर के तौर पर टीम में शामिल किया गया था। लेकिन उन्हे टीम के प्लेइंग इलेवन का प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिला और वह सीरीज खत्म होने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर कर दिए गए।

यह पहली बार नहीं था जब श्रीकर भरत को इस तरह से भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल किया गया और बाद में वह बाहर हो गए। इससे पहले साल 2019 के दौरान भी उन्हें रिद्धिमान साहा के बैकअप के तौर पर भी टीम में शामिल किया गया था। लेकिन उन्हें टीम के प्लेइंग इलेवन का प्रतिनिधित्व करने का मौका नहीं मिला।

रिद्धिमान साहा

xbd8bqmy 1527676657

इसी साल भारतीय टीम और न्यूजीलैंड के बीच खेली गई दो टेस्ट मैचों की श्रृंखला में भारतीय क्रिकेट टीम को दोनों ही मैचों में हार झेलनी पड़ी थी। उस दौरान भारतीय टीम मैनेजमेंट ने कई चौंकाने वाले फैसले लिए थे। उसमें से एक चौंकाने वाला फैसला यह भी था कि टीम के लिए रिद्धिमान साहा नहीं बल्कि ऋषभ पंत एक विकेटकीपर के तौर पर मैदान पर उतरे थे।

पूरी सीरीज के दौरान रिद्धिमान साहा बेंच पर बैठे रहे अगर सीरीज के दौरान पत के प्रदर्शन पर नजर डालें तो उन्होंने दो मैचों में चार पारियों में बल्लेबाजी करते हुए कुल 60 रन बनाए थे। पंत को सीरीज के दौरान उनके बल्लेबाजी की वजह से ही रिद्धिमान साहा के बजाय तवज्जो दी गई थी, लेकिन उनका प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा।

नवदीप सैनी

gettyimages 1001095324 1566204678

भारतीय टीम के स्टार तेज गेंदबाज नवदीप सैनी लंबे समय से एक तेज गेंदबाज के तौर पर भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा है। लेकिन अब तक उन्हें टेस्ट टीम में डेब्यू करने का मौका नहीं मिला। नवदीप सैनी ने पिछले कुछ समय से वाइट बॉल क्रिकेट में काफी बेहतरीन प्रदर्शन किया। लेकिन टीम मैनेजमेंट ने उन्हें टेस्ट क्रिकेट में अब तक शामिल नहीं किया।

न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सीरीज के दौरान नवदीप सैनी भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा थे। उस समय दोनों ही टेस्ट मैचों में भारतीय तेज गेंदबाजों का प्रदर्शन है उतना खास नहीं रहा था। टीम के लिए जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और उमेश यादव गेंदबाजी किए थे।

उस समय उम्मीद लगाई गई थी कि नवदीप सैनी भी टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करेंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ वह दोनों टेस्ट मैचों के दौरान खिलाड़ियों को पानी पिलाते नजर आए।