Dinesh Karthik 2
Indian cricketer Dinesh Karthik plays a shot during the final Nidahas Twenty20 Tri-Series international cricket match between India and Bangladesh at the R. Premadasa stadium in Colombo on March 18, 2018. / AFP PHOTO / ISHARA S. KODIKARA
Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

दुनियाभर में कोरोना वायरस का तांडव लगातार जारी है. चीन से आए इस वायरस ने बाकी खेलों की तरह क्रिकेट को भी जबरदस्त नुकसान पहुंचाया है. 7 अगस्त को हुए बोर्ड की मीटिंग में आईसीसी ने कोरोना वायरस महामारी की वजह से टी20 विश्वकप 2020 को 2022 स्थगित कर दिया था. इसी कारण अब साल 2021 में भारत में पूर्व निर्धारित टी20 विश्वकप के लिए सभी टीमें तयारी कर रहीं हैं. इनमें भारतीय टीम भी शामिल है.

इसी बीच महेंद्र सिंह धोनी तथा सुरेश रैना ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से अपने संन्यास का ऐलान कर दिया. जिससे आगामी विश्वकप में भारतीय टीम की स्थिति दुविधापूर्ण हो गयी है. क्योंकि अभी तक मीडिया में चल रहा था कि धोनी आईपीएल में अच्छा कर विश्वकप खेल सकते हैं. हालाँकि अब उन्होंने संन्यास ले लिया है तो अब विश्वकप की भारतीय टीम क्या होगी ये चर्चा आम है.

बहुत से खिलाड़ी हैं जो अभी भी मानते हैं कि वो विश्वकप में भारतीय टीम का हिस्सा बन सकते हैं. हालाँकि बीसीसीआई की मंशा को देखें तो उसने लगभग अपनी टीम तैयार कर ली है. हालाँकि कई खिलाड़ी सोच रहे हैं कि यदि वो आईपीएल में अच्छा करते हैं तो वो विश्वकप खेल सकते हैं, जबकि इनमे से कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जो बीसीसीआई की स्कीम ऑफ़ थिंकिंग से ही बाहर भी हो चुके हैं.

ऐसे में आज हम आपको ऐसे ही 4 भारतीय बल्लेबाजों के बारे में बताएँगे जो अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद टी20 विश्वकप 2021 टीम में नहीं आ सकते क्योंकि वो बीसीसीआई की स्कीम ऑफ़ थिंकिंग से ही बाहर हो चुके हैं. तो चलिए हम आपको उन 4 खिलाड़ियों से रूबरू कराते हैं.

अजिंक्य रहाणे

rahane 1

भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे का सीमित ओवरो के क्रिकेट में ज्यादा बुरा रिकॉर्ड नहीं है. इसके बावजूद रहाणे लगातार भारतीय टीम के सीमित प्रारूप के क्रिकेट से दूर चल रहे हैं. वनडे में रहाणे का औसत लगभग 36 का है, जो वाकई शानदार है. वहीँ टी20 में भी रहाने लगभग 21 की औसत से रन बनाते हैं. जो कि इतना बुरा नहीं है.

क्योंकि टीम में लगातार खेल रहे ऋषभ पंत का भी औसत 21 से नीचे का है. लेकिन इस बार विश्वकप भारत की जमीन पर होना है. जहाँ पर हमेशा स्पिनर्स का बोलबाला रहता है. ऐसे में अजिंक्य रहाणे टीम के लिए अच्छा कर सकते हैं, क्योंकि वो स्पिन शानदार तरीके से खेलते हैं. लेकिन बावजूद इसके भारतीय चयनकर्ता उन्हें लगातार भारतीय टीम से बाहर किये हुए हैं.

जिसे देखकर साफ़ पता चलता है कि रहाणे सीमित ओवरों के क्रिकेट में भारतीय टीम मैनेजमेंट की स्कीम ऑफ़ थिंकिंग से बाहर हो चुके हैं. यही कारण है आईपीएल में रहाणे चाहें जितना अच्छा प्रदर्शन करें उनका टी20 विश्वकप 2021 में  खेलना नामुमकिन सा लगता है.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse