aakash chopra

आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप (Test Championship) के फाइनल मुकाबले में भारत की गेंदबाजी इकाई सबसे बड़ी चर्चा का विषय है। दिग्गज खिलाड़ी इसपर अपनी राय देते नजर आएंगे। इस बीच कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने रविचंद्रन अश्विन व रविंद्र जडेजा को प्लेइंग इलेवन में शामिल करने को लेकर टिप्पणी की है। अब इसी क्रम में आकाश चोपड़ा का मानना है कि टीम को प्लेइंग इलेवन में इन दोनों को खिलाना चाहिए।

अश्विन-जडेजा दोनों को करें शामिल

Test Championship

इंग्लैंड की परिस्थितियों के अनुसार टीम में 3-4 तेज गेंदबाजों को शामिल किया जाता है और अमूमन टीमें एक स्पिनर लेकर ही मैदान पर उतरती हैं। ऐसे में अब विराट कोहली के सामने मुश्किल सवाल है कि वह रविचंद्रन अश्विन व रविंद्र जडेजा में से किसे अंतिम ग्यारह में शामिल करते हैं। मगर अब अपने यूट्यूब चैनल पर बात करते हुए आकाश चोपड़ा ने दोनों को ही Test Championship फाइनल में शामिल करने की बात कही है। उन्होंने कहा,

“मेरी राय में अश्विन और जडेजा दोनों ही खेलने चाहिए। विरोधी टीम न्यूजीलैंड है, कोई एशियन टीम नहीं जो स्पिन बेहतर खेलती हो। मेरे हिसाब से अश्विन और जडेजा को मिलाकर आपको पांच गेंदबाजों के साथ उतरना चाहिए। ये दोनों ही खिलाड़ी इंग्लैंड की परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।”

एक जैसी बॉलिंग से बल्लेबाजी होती है आसान

आकाश चोपड़ा ने इंग्लैंड की सरजमीं पर खेले जाने वाले Test Championship फाइनल में रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा के प्लेइंग इलेवन में होने से गेंदबाजी इकाई में विविधता रहती है। चोपड़ा का मानना है कि यदि एक जैसी गेंदबाजी रहती है, तो बल्लेबाजी मुश्किल हो जाती है। आकाश चोपड़ा ने आगे कहा,

“हां जरूर आपके दिमाग में ये बात रही होगी कि स्पिनर्स को शायद इंग्लैंड की परिस्थितियों में उतनी मदद ना मिले। लेकिन हमने देखा है कि जब आपका अटैक सिर्फ एक जैसा ही होता है तो फिर बल्लेबाजी आसान हो जाती है।”

कई दिग्गज दे चुके हैं सलाह

Test Championship

भारतीय क्रिकेट टीम को Test Championship फाइनल में रविंद्र जडेजा व रविचंद्रन अश्विन दोनों को शामिल किया जाना चाहिए। ये राय ना केवल आकाश चोपड़ा बल्कि तमाम पूर्व दिग्गज खिलाड़ी भी दे चुके हैं। जिसमें  मोंटी पनेसर, मनिंदर सिंह, नासिर हुसैन आदि का नाम शामिल है।

दरअसल, जडेजा व अश्विन ना केवल गेंदबाजी इकाई में विविधता लाएंगे, बल्कि इनके होने से भारत की बल्लेबाजी इकाई में गहराई मिलेगी, जो इंग्लैंड में काफी अहम होती है। ये दोनों ही खिलाड़ी अच्छी लय में हैं, जो भारत के लिए सकारात्मक संकेत हैं।