photo 2021 07 30 09 55 50

Team India का श्रीलंका दौरा खत्म हो चुका है। पहले वनडे सीरीज में भारत ने सीरीज पर कब्जा जमाया और फिर T20I सीरीज में मेजबान टीम ने जबरदस्त वापसी की और सीरीज में भारत को 2-1 से मात दी। इस दौरे पर भारतीय टीम की जो एक बड़ी समस्या निकलकर सामने आई है, वह है स्पिन गेंदबाजी का सामना। असल में पूरे दौरे पर भारतीय बल्लेबाज स्पिन गेंदबाजों के सामने मुश्किल में नजर आए।

स्पिनर्स के सामने भारत ने गंवाए विकेट

Team India

श्रीलंका दौरे पर Team India के बल्लेबाजों को स्पिनर्स के सामने संघर्ष करते देखा गया। फिर चाहें वह अनुभवी बल्लेबाज शिखर धवन की बात की जाए या फिर युवा खिलाड़ियों की। इस बात में कोई शक नहीं है कि आर.प्रेमदासा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की पिच पर स्पिनर्स के लिए मदद थी, जिसका फायदा दोनों ही टीमों के स्पिनर्स को मिला।

लेकिन श्रीलंकाई स्पिनर्स के सामने तो मानो भारतीय बल्लेबाजी इकाई एकदम बेबस नजर आई। भले ही भारत ने वनडे सीरीज में जीत दर्ज की हो, मगर दूसरे व तीसरे मैच में भारत ने नियमित अंतराल पर विकेट गंवाए थे और ज्यादातर विकेट्स स्पिनर्स के ही खाते में थे। इसके बाद T20I सीरीज में तो मानो श्रीलंकाई स्पिनर्स का दबदबा देखने को मिला। सीरीज के आखिरी व निर्णायक मैच में वनिंदु हसरंगा ने अपने कोटे के 4 ओवर में सिर्फ 9 रन देकर 4 विकेट चटकाए। वहीं दासुन शनाका ने भी 2 विकेट निकाल लिए और इस तरह भारतीय बल्लेबाजी इकाई बेबस नजर आई।

युवाओं को सीखना होगा स्पिनर्स को खेलना

श्रीलंका दौरे पर युवाओं को खूब मौके मिले, सीरीज में अलग-अलग फॉर्मेट में कुल 14 डेब्यू हुए। लेकिन इन सबके बीच जो एक बात निकलकर सामने आई है, वह ये है कि युवा खिलाड़ियों को स्पिनर्स का सामना करना सीखना होगा। देवदत्त पडिक्कल, रितुराज गायकवाड़, पृथ्वी शॉ, ईशान किशन जैसे बल्लेबाज भारत का आने वाला भविष्य हैं, उन्हें स्पिनर्स का सामना डटकर करना होगा।

श्रीलंका के स्पिनर्स में वनिंदु हसरंगा ने भारत के सामने 10 विकेट चटकाए, अकीला धनंजय 5, जयाविक्रमा ने 4 मुख्य विकेट लेने वाले स्पिनर्स रहे। ये आंकड़े गवाही दे रहे हैं कि भारत को स्पिन के सामने अब संघर्ष करना पड़ रहा है।

टी20 विश्व कप से पहले दूर करनी होगी समस्या

Team india-ind vs sl

17 अक्टूबर से शुरु होने वाले टी20 विश्व कप की मेजबानी ओमान व यूएई को सौंपी गई है। ओमान में क्वालिफायर्स खेले जाएंगे, जबकि यूएई में टॉप-12 टीमें आपस में भिडेंगी। ये बात किसी से छिपी नहीं है कि यूएई की पिचों पर स्पिन गेंदबाजों का बोलबाला रहता है। तो ऐसे में ना केवल भारत को सर्वश्रेष्ठ स्पिनर्स के साथ मैदान पर उतरने की जरुरत है। बल्कि Team India को टी20 विश्व कप से पहले अपने बल्लेबाजों को स्पिन के सामने टिकना सीखना होगा। यदि भारत को टी20 विश्व कप में जीत दर्ज करनी है, तो ये क्वालिटी बल्लेबाजों में होना लाजमी है।