Team India-Prithvi

भारत-इंग्लैंड (IND vs SL) के बीच आगामी महीने में 4 अगस्त से टेस्ट सीरीज की शुरूआत होने जा रही है. लेकिन, उससे पहले टीम इंडिया (Team India) के लिए कई बुरी खबरों ने दस्तक दे दिया है. अब तक तीन खिलाड़ियों के इंजर्ड होने की खबर सामने आ चुके है जो सीरीज से भी हाथ धो चुके हैं. इसमें शुभमन गिल (Shubhman Gill), आवेश खान (Avesh Khan) और वॉशिंगटन सुंदर (Washington Sundar) का नाम शामिल है. ऐसे में चोटिल खिलाड़ियों के रिप्लेसमेंट के तौर पर पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) और सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) का नाम चर्चा में है.

सलामी बल्लेबाज के तौर पर कप्तान के लिए बड़ी चुनौती

Team India

दरअसल इस तरह की कई मीडिया रिपोर्ट्स के जरिए दावा किया गया है कि, ये दोनों खिलाड़ी इंग्लैंड जाएंगे. लेकिन, अभी दोनों श्रीलंका के खिलाफ टी20 सीरीज खेल रहे हैं. गिल के इस दौरे से बाहर होने के बाद से ही ये सवाल सस्पेंस बना रहा है कि, रोहित शर्मा के साथ ओपनर की कमी को कौन पूरा करेगा? इसे लेकर टीम मैनेजमेंट और कप्तान कोहली भी उलझन में होंगे.

हालांकि टीम इंडिया (Team India) के पास मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) और अभिमन्यु ईश्वरन (Abhimanyu Easwaran) के तौर पर 2 ऑप्शन कप्तान के पास मौजूद है. लेकिन, जिस तरह के फॉर्म में पृथ्वी शॉ ने वापसी की है उसे देखते हुए उनकी दावेदारी मजबूत नजर आ रही है. इस समय वो लगातार अपनी परफॉर्मेंस से सबका दिल जीत रहे हैं. श्रीलंका के खिलाफ तीन एकदिवसीय सीरीज में खेलते हुए 105 रन बनाए हैं.

ऑस्ट्रेलिया दौरे से शॉ टेस्ट सीरीज से चल रहे हैं बाहर

photo 2021 07 24 16 53 02 1

पृथ्वी शॉ काफी वक्त से टेस्ट प्रारूप में अपनी जगह नहीं बना पा रहे हैं. आखिरी बार उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टीम में चुका गया था. इस दौरान एडिलेड में मौका भी दिया गया, जिसका फायदा वो उठा नहीं पाए थे. इस वजह से उन्हें आखिर के तीनों मुकाबलों से बाहर कर दिया गया था. इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई घरेलू टेस्ट सीरीज से भी उन्हें ड्रॉप कर दिया गया था.

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जिस तरह से वो फ्लॉप हुए थे उसे देखते हुए सुनील गावस्कर और रिकी पोंटिंग ने उनकी तकनीक में कई खामी बताई थी. जिसे उन्होंने खुद माना था. इस सीरीज से बाहर होने के बाद वो पूरी तरह से निराश हो चुके थे.

कुछ महीनो में बना लिए हैं 1200 से ज्यादा रन

photo 2021 07 26 15 12 35

उनकी फॉर्म को देखने के बाद कहीं ना कही टीम प्रबंधन और चयनकर्ता यही उम्मीद जता रहे थे कि वो अपने खेल पर काम करें. खासकर अंदर आती गेंदों के खिलाफ अपनी तकनीक की खामियों को दूर करें. ये सबसे बड़ा कारण था कि, उन्हें इंग्लैंड दौरे से बाहर कर दिया गया था. लेकिन, इसके बाद उन्होंने अपनी बल्लेबाजी में काफी सुधार किया. जिसका नतीजा ये है कि, जनवरी से ही वो लगातार अपने बल्ले से रनों की झड़ी लगा रहे हैं. आईपीएल 2021 के पहले चरण में भी उन्होंने दिल्ली कैपिटल्स की ओर से खेलते हुए जमकर रन बटोरे थे.

उन्होंने अपनी कप्तानी में पहले मुंबई को इसी साल विजय हजारे ट्रॉफी का खिताब दिलाया. इस टूर्नामेंट में उन्होंने 8 पारियों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 827 रन बनाए थे. टेस्ट करियर में उन्होंने अब तक सिर्फ 5 टेस्ट मैच खेले हैं. ऑस्ट्रेलिया में फ्लॉप होने के बाद लिस्ट-ए क्रिकेट में उन्होंने रनों का अंबार लगा दिया है. 20 पारी में 72.94 की औसत से कुल 1240 रन बनाए हैं. इस पारी में उनके बल्ले से 4 शतक और 5 अर्धशतक निकले हैं.

सलामी बल्लेबाज के तौर पर शॉ को अग्रवाल को दे सकते हैं टक्कर

photo 2021 07 26 15 13 32

अपने इन्हीं प्रदर्शन की वजह से अब इंग्लैंड में सलामी बल्लेबाज के तौर पर जगह बनाने को लेकर चर्चाओं में हैं.  लेकिन, मयंक अग्रवाल उन्हें टक्कर जरूर दे सकते हैं. हाल ही में काउंटी के खिलाफ उन्होंने टीम इंडिया (Team India) की ओर खेलते हुए 47 रन की पारी खेली थी. इस वजह से पहले टेस्ट में मयंक ओपनर के तौर पर दिख सकते हैं.

इसके पीछे का एक कारण ये है कि, इस समय शॉ श्रीलंका दौरे पर टी20 सीरीज का हिस्सा हैं. जिसका आखिरी मुकाबला 29 जुलाई को खेला जाना है. इस श्रृंखला के खत्म होते ही वो इंग्लैंड के लिए रवाना हो जाएंगे. नियमों मुकाबिक पहले उन्हें 10 दिन क्वारंटीन में रहना होगा. ऐसे में वो नॉटिंघम में 4 अगस्त से होने वाले पहले टेस्ट का हिस्सा नहीं बन पाएंगे.

सूर्यकुमार इस प्रदर्शन के आधार पर बना सकते हैं टीम इंडिया (Team India) में जगह

photo 2021 07 24 12 52 29 1

फिलहाल सूर्या शानदार फॉर्म में है. लिमिटेड ओवर की सीरीज में उन्होंने भारत की ओर से खेलते हुए शानदार प्रदर्शन किया है. लेकिन, ये कहना है गलत होगा कि उन्हें इस आधार पर इंग्लैंड दौरे पर शामिल किया गया है. क्योंकि उन्होंने रणजी ट्रॉफी के 2019-20 सीजन में मुंबई की तरफ से खेलते हुए 10 पारी में 56 से ज्यादा की  औसत से 508 रन बनाए थे. इस पारी में उनके बल्ले से 2 शतक और 2 अर्धशतक भी निकले है.

इसके अलावा उन्होंने 77 फर्स्ट क्लास मुकाबले भी खेले थे. इसमें से 71 मैच उन्होंने रणजी ट्रॉफी में खेले हैं. ऐसे में यदि वो इंग्लैंड दौरे पर जाते हैं तो उन्हें 5वें स्थान पर मौका दिया जा सकता है. लेकिन, मिडिल ऑर्डर में उन्हें  हनुमा विहारी और केएल राहुल टक्कर जरूर दे सकते हैं. क्योंकि इस समय राहुल को टीम मैनेजमेंट मध्यक्रम के बल्लेबाज के तौर पर देख रहे हैं. यहां तक कि काउंटी में भी उन्होंने शतकीय पारी खेली है.