3 big weaknesses of Team India were revealed
Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

मुंबई के वानखेडे़ स्टेडियम में 372 रनों से मिली जीत के साथ Team India ने सीरीज को 1-0 से अपने नाम कर लिया है. घरेलू सरजमीं पर ये भारत की लगातार टेस्ट सीरीज की 14वीं जीत है. जो यकीनन भारतीय खिलाड़ियों के लिए ही नहीं बल्कि फैंस के लिए भी खुशी का मौका है. इस जीत में कई खिलाड़ियों का खास योगदान रहा. वानखेड़े पर स्पिनर का बोलबाला रहा.

कीवी टीम ने भले ही सीरीज को गंवा दिया लेकिन, मुंबई में जन्मे भारतीय मूल के न्यूजीलैंड के स्पिनर एजाज पटेल ने कई बड़े कारनामे किए. पहली इनिंग में उन्होंने पूरे 10 विकेट लेकर दिग्गजों के क्लब में एंट्री मारी. इसके बाद दूसरी इनिंग में उन्होंने कुल 4 विकेट हासिल किए. वहीं भारतीय टीम की ओर से इस सीरीज में सबसे ज्यादा सफलता आर अश्विन के हाथ लगी.

इस टेस्ट सीरीज को भले ही टीम इंडिया (Team India) ने जीत लिया. लेकिन, इस दौरान कई ऐसी कमजोरियां देखने को मिली जिस पर खिलाड़ियों को ध्यान देना जरूरी है. हम अपने इस आर्टिकल में उन्हीं 3 कमियों के बारे में बात करने जा रहे हैं जो इस टेस्ट सीरीज में देखने को मिली.

पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट करने में मुश्किल

Ajaz patel-rachin ravindra

इस टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला कानपुर के ग्रीन पार्क में खेला गया था. जिसमें भारतीय टीम जीत के काफी करीब थी. लेकिन, एक विकेट लेने के लिए टीम के अनुभवी गेंदबाज भी काफी संघर्ष करते हुए नजर आए थे. न्यूजीलैंड ने कानपुर टेस्ट मैच के 5वें दिन कुल 8 विकेट खो दिए थे. लेकिन, टीम के पुछल्ले बल्लेबाजों में एक आत्मविश्वास दिखा.

दूसरे टेस्ट मैच को टीम इंडिया (Team India) ने आसानी से जीत लिया और पहले मुकाबले को भी जीत सकती थी. हालांकि ऐसा नहीं सका. निचले क्रम के बल्लेबाज एजाज पटेल और रचिन रवींद्र के बीच 52 गेंदों की साझेदारी हुई और दोनों आखिरी तक कानपुर टेस्ट को बचाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया था.

रचिन का ये डेब्यू टेस्ट था. ज्यादा अनुभव ना होने की बावजूद उनका ध्यान सिर्फ टेस्ट को ड्रॉ कराने पर था और हुआ भी कुछ ऐसा ही. इस दौरान भारतीय टीम के अनुभवी गेंदबाज इन गैरअनुभवी कीवी बल्लेबाजों के सामने  सिर्फ बेबस नजर आए.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse