लगभग एक साल बाद टी-20 टीम में वापसी के साथ रैना का जलवा बरकरार है। रैना ने अपनी दमदार फील्डिंग अपने बेहतरीन क्रिकेट का होने का सबूत दे दिया। रैना जहां एक ओर अपने बल्ले से कमाल दिखा रहे हैं,तो वहीं दूसरी ओर अपनी फील्डिंग से सभी की सांशे थमा रहे हैं।

सोमवार को श्रीलंका के साथ हुए अपने तीसरे मुकाबले में भारतीय टीम ने 6 विकेट से जीत हासिल की है। टीम की इस जीत में रैना का भी अहम योगदान हैं। रैना ने इस मैच में हैरतंगेज कैच लपका,जिसके बाद सभी ने दांतों तले उंगली दबा ली।

भारत ने किया पहले गेंदबाजी का फैसला

कोलंबो स्थित प्रेमदासा क्रिकेट स्टेडियम के बारे में कहा जाता है कि जो टीम पहले बल्लेबाजी करती हैं जीत उसी की होती है। लेकिन पिछले दो मैचों से एक सिलसिला टूट गया। पहले बांग्लादेश ने फिर भारत ने इस मिथक को तोड़ दिया। भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसल किया। बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका की टीम ने शानदार शुरूआत करते हुए पहले ओवर में 15 बना डाला। टीम का पहला ओवर जयदेव उनादकट लेकर आए थे।

गुणाथिलका को रैना ने बनाया शिकार

सलामी बल्लेबाज धनुष्का गुणाथिलका और कुशल मेंडिस के इरादे नेक नहीं लग रहे थे। दोनों ने शुरू से भारतीय गेंदबाजों के खिलाफ सख्त रूप अख्तियार कर लिया था। गुणाथिलका ने 8 गेंदों का सामना करते हुए 1 छक्के की मदद से 17 रन बना डाले। शार्दुल ठाकुर टीम का तीसरा ओवर फेंक रहे थे ।

इस समय श्रीलंका का स्कोर 2 ओवर में 25 रन बिना किसी नुकसान के रहा। शार्दुल ठाकुर के ओवर की पहली ही गेंद पर गुणाथिलका बड़ा हिट लगाने की फिराक में थे लेकिन सुरेश रैना जैसे चीता फील्डर ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया।

हैरतअंगेज और असंभव कैच को संभव बनाते हुए रैना ने गुणाथिलका को पवेलियन भेज दिया। वीडियो में साफ दिखता है कि रैना ने कैसे चीते की समान छलांग लगाते हुए दोनों हाथों से कैच पकड़न के बाद एक हाथ जमीन का सहारा लेते हुए गुलाटी मारकर सफल कैच को अंजाम दिया।

यहां देखें वीडियोः

यो-यो टेस्ट का कमाल

सुरेश रैना को पिछले एक साल से टीम इंडिया में जगह नहीं मिली थी। इसके पीछे की वजह रैना की फिटनेस और फॉर्म को माना जा रहा था। टीम में वापसी के लिए रैना बेंगलुरू स्थित नेशनल क्रिकेट एकादमी में जमकर पसीना बहाने के बाद यो-यो टेस्ट पास किया। बाद में रैना का बल्ला सैय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी में भी जमकर बोला।

इस दौरान रैना ने एक शतक और अर्धशतक भी लगाया। रैना के इसी प्रदर्शन ने चयनकर्ताओं का ध्यान उनकी ओर आकर्षित किया। रैना ने कमाल का प्रदर्शन करते हुए यह साबित कर दिया है कि चयनकर्ताओं ने टीम मे उन्हें जगह देकर कोई गलती नहीं की।अभी तक रैना ने सीरीज के तीन मैचों में 56 रन बनाए हैं।

खेल पत्रकार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *