Sunrisers Hyderabad-2 Retained Players
Sunrisers Hyderabad-2 Retained Players

आईपीएल 2022 (IPL 2022) के मेगा ऑक्शन (Mega Auction) से पहले सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) ने कुल 3 खिलाड़ियों को रिटेन किया है. 30 नवंबर रिटेंशन की आखिरी तारीख थी और सभी फ्रेंचाइजियों ने अपने रिलीज और बरकरार रखने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी कर दी है. इस लिस्ट में कप्तान केन विलियमसन के साथ दो भारतीय अनकैप्ड खिलाड़ियों का भी नाम शामिल है. जिन्हें फ्रेंचाजियों ने 15वें सीजन में बरकरार रखने का फैसला किया है.

हालांकि विलियमसन के अलावा जिन 2 खिलाड़ियों को सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) ने रिटेन करने का फैसला कियया है उसे लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं. इस आर्टिकल में हम ऐसे ही कारणों के बारे में बात करने जा रहे हैं कि इन 2 अनकैप्ड खिलाड़ियों को रिटेन कर फ्रेंचाइजी ने कितनी बड़ी गलती कर दी है.

अब्दुल समद

Abdul Samad

20 वर्षीय भारतीय अनकैप्ड खिलाड़ी अब्दुल समद (Abdul Samad) का इस लिस्ट में सबसे पहले नाम आता है जिन्हें ना अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने का मौका मिला है और ना उन्होंने इस टूर्नामेंट में ज्यादा अनुभव है. पिछले सीजन में भी वो अपने बल्ले से कुछ खास कमाल नहीं दिखा सके थे. हालांकि समद में प्रतिभा की कमी नहीं है और वो एक बेहतरीन ऑलराउंडर साबित हो सकते हैं.

लेकिन, जिस तरह से वो बल्लेबाजी करते हैं उससे साफ जाहिर होता है कि वो प्रेशर नहीं झेल पाते और विरोधियों के खिलाफ जल्दी हथियार डाल देते हैं. पिछले सीजन की बात की जाए तो उन्हें 11 में मैनेजमेंट ने खेलने का मौका दिया था. लेकिन, 12 की बेहद खराब औसत से उन्होंने सिर्फ 111 रन बनाए थे. वहीं 9 की इकोनॉमी रेट से सिर्फ 1 विकेट हासिल किया था.

अभी तक अब्दुल समद ने सिर्फ दो सीजन खेले हैं और दोनों ही सीजन में उनका प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक काफी खराब रहा है उनके इस प्रदर्शन को देखते हुए ये कहा जा सकता है कि कहीं इस भारतीय अनकैप्ड खिलाड़ी को टीम में रिटेन कर सनराइजर्स हैदराबाद ने सबसे बड़ी गलती तो नहीं कर दी है.

उमरान मलिक

Umran Malik

इस लिस्ट में दूसरा नाम उमरान मलिक (Umran Malik) का आता है जिन्हें आखिरी के दो मैच में खेलने का मौका मिला था. वो टीम के साथ नेट गेंदबाज के तौर पर जुड़े थे. लेकिन, कई आईपीएल 2021 के दूसरे हाफ में कुछ खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में उन्हें टीम का हिस्सा बनाया गया था. 22 के इस खिलाड़ी को जब मौका मिला तो उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था.

150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उन्होंने गेंदबाजी करते हुए सबको चौंका दिया था. लेकिन, ना उन्हें अभी तक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने का मौका मिला है और ना ही इंडियन प्रीमियर जैसे बड़े टूर्नामेंट में उन्हें खेलने का अनुभव है. ऐसे में सिर्फ गति और स्पीड के मुताबिक टीम में उन्हें रिटेन करने का फैसला लोगों के मन में सवाल खड़े कर रहा है.

क्योंकि आईपीएल में उमरान मलिक ने सिर्फ एक मुकाबला खला है. इसलिए ये कह सकते हैं कि 15वें सीजन में इस अनकैप्ड खिलाड़ी को रिटेन कर सनराइजर्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad) ने कहीं बहुत बड़ी गलती तो नहीं कर दी है.