बल्लेबाजों के लिए लंबे समय से मुसीबत बने हुए सुनील नारायण अब गेंदबाजों के लिए भी आफत बन गए हैं. जिस बात पर मुहर एक बार फिर इर्डन गार्डन में लगी. जब नरेन के तूफ़ान में बैंगलोर के गेंदबाज उड़ गए. नरेन ने अपनी तूफ़ान से अकेले मैच का रूख मोड़ दिया. इस बात को मैच के बाद विपक्षी कप्तान विराट कोहली ने भी स्वीकार किया.

नरेन ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी कर 17 गेंदों पर 50 रन जड़कर कोलकाता की जीत की मजबूत नींव रख दी. मैन ऑफ द मैच नरेन की आातिशी पारी में पांच छक्के और चार चौके शामिल रहे. 19 गेंदों पर कुल 50 रन की पारी खेलकर वह उमेश यादव की गेंद पर बोल्ड होकर पवेलियन लौटे, लेकिन तब तक वह अपने काम को बखूबी अंजाम दे चुके थे.

इसी के साथ नरेन ने टी-20 क्रिकेट में पांचवा अर्धशतक लगाया. 29 साल के नारायण ने पिछले सत्र में भी बेंगलूर के खिलाफ ही उसी के मैदान में 15 गेंदों पर 50 रन जड़कर यूसुफ पठान के रिकॉर्ड की बराबरी की थी. उस मैच में उन्होंने 17 गेंदों पर 54 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी. हालांकि उनके उस रिकॉर्ड को पंजाब के सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल ने रविवार को ही दिल्ली के खिलाफ दिन के पहले मैच में ही तोड़ दिया. राहुल ने 14 गेंदों पर अर्धशतक जड़ा.

बंगलौर के बल्लेबाज मनदीप सिंह ने मैच के बाद के प्रेजेंटेशन में कहा कि उन्होंने एक अच्छा स्कोर बनाया लेकिन नारायण ने मोड़ दिया. उन्होंने आगे कहा

“निश्चित रूप से, नरेन की पारी में महत्वपूर्ण मोड़ था. यदि आपको पहले छह ओवरों में इस तरह से अच्छी शुरुआत मिलती है, तो गेम का 50 फीसदी हिस्सा खत्म हो गया है. शेष सभी बल्लेबाजों के लिए दूसरों के लिए बहुत कुछ नहीं बचा था.”

Anurag Singh

लिखने, पढ़ने, सिखने का कीड़ा. Journalist, Writer, Blogger,

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *