Sunil Narine-MOM IPL

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और कोलकाता नाइट राइडर्स (RCB vs KKR) के बीच खेला गया एलिमिनेटर मुकाबला बेहद रोमांचक रहा. सुनील नरेन (Sunil Narine) इस मुकाबले के हीरो रहे. टॉस जीतकर कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने पहले बल्लेबाजी का फैसला करते हुए इयोन मोर्गन (Eion Morgan) को गेंदबाजी का न्योता दिया था. उनका यह फैसला टीम के लिए सही साबित नहीं हुआ और केकेआर शुरू से ही दबाव बनाने में कामयाब रही. 7 विकेट के नुकसान पर आरसीबी ने केकेआर के सामने 139 रन का लक्ष्य रखा था. जिसका पीछा करने उतरी कोलकाता ने इस मैच को 4 विकेट से जीत लिया.

शानदार गेंदबाजी और बल्लेबाजी कर इस खिलाड़ी ने केकेआर को जिताने में निभाई अहम भूमिका

Sunil Narine

इस मुकाबले में कप्तान मोर्गन को टॉस में भले ही हार का सामना करना पड़ा. लेकिन, मैच को केकेआर नाम करने में कामयाब रही. अंत तक चले इस संघर्ष में कोलकाता को हारी हुई बाजी में जीत मिली. पहले चरण में खराब फॉर्म से जूझ रही केकेआर के यह रूप भी देखने को मिलेगा इसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की थी. लेकिन, आज नामुमकिन को भी कोलकाता की पूरी टीम ने मुमकिन कर दिखाया. गेंदबाजों से लेकर बल्लेबाजों ने इस लड़ाई को आखिर तक अंजाम दिया और इसका रिजल्ट भी टीम के लिए शानदार रहा.

इस जीत के साथ दूसरे चरण में कोलकाता नाइट राइडर्स ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को एलिमिनेट भी कर दिया. 139 रनों का बचाव करना इतना आसान नहीं होने वाला था और पावरप्ले में बढ़िया शुरुआत देकर गिल और अय्यर ने केकेआर का काम आसान कर दिया था. मध्य ओवर में मैच रोमांचक मोड़ पर फंसा जरूर था लेकिन सुनील नारेन (Sunil Narine) ने डेन क्रिस्टियन के एक ओवर में तीन छक्के जड़कर टीम की राह आसान कर दी थी. उन्होंने पहले गेंदबाजी करते हुए 4 विकेट झटके फिर 15 गेंदों में 26 रन की अहम पारी भी खेली. यही वजह है कि उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया.

MOM का खिताब मिलने के बाद स्पिनर ने अपने प्रदर्शन को लेकर दी बड़ी प्रतिक्रिया

trfb
PC : BCCI

आरसीबी के खिलाफ शानदार प्रदर्शन के बाद केकेआर की ओर से मैन ऑफ द मैच बने सुनील नरेन (Sunil Narine) ने मैच प्रजेंटेशन में बात करते हुए कहा कि,

“जब आप अच्छा करो और टीम मैच जीते तो हमेशा अच्छा लगता है. मैं टीम के लिए हमेशा योगदान देना चाहता हूं. मैं भगवान का धन्यवाद करता हूं जिनकी कृपा से यह संभव हो पाया. आज सभी खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया. अपनी नई एक्शन से मैं पुराने सुनील नारायण बनने से अभी दूर हूं. मैं मेहनत करता जाऊंगा और बेहतर होता जाऊंगा. मैं गेंद के साथ खेल को कंट्रोल करना चाहता हूं. आने वाले दोनों मुकाबलों में भी मैं इस प्रदर्शन को जारी रखना चाहूंगा.”