subhman gill-MOM

सुपर संडे में केकेआर और सनराइजर्स हैदराबाद (KKR vs SRH) के बीच खेला गया दूसरा मुकाबला रोमांच से भरा रहा. इस मैच हीरो शुभमन गिल (Subhman gill) रहे. मुकाबले की शुरूआत से पहले टॉस जीतकर हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन ने पहले बल्लेबाजी का फैसला करते हुए इयोन मोर्गन को गेंदबाजी का न्योता दिया था. परिणामस्वरूप पहले बल्लेबाजी करने उतरी केन की टीम 8 विकेट के नुकसान पर 116 रन का लक्ष्य ही खड़ा कर सकी थी. जिसका पीछा करने कोलकाता नाइट राइडर्स की टीम ने इस मैच को 6 विकेट से अपने नाम कर लिया.

गिल ने केकेआर की ओर से खेली मैच जिताऊ पारी

Subhman gill

इस मुकाबले को जीतने के साथ ही कोलकाता की टीम ने 2 महत्वपूर्ण अंक हासिल किया है. केकेआर प्लेऑफ की दौड़ में अभी भी चौथे स्थान पर बरकरार है. हालांकि अभी तक कोलकाता क्वालिफाई नहीं कर सकी है. इसके लिए टीम को अपना आखिरी लीग मैच जीतना होगा. यदि ऐसा होता है तो इस समीकरण में और बदलाव देखने को मिलेंगे. भले ही यह एक लो स्कोरिंग मैच था लेकिन, दूसरी पारी में रोमांच की महक जरूर आई थी. हालांकि शुभमन गिल (Subhman gill) एक छोर से क्रीज पर डटे थे. उन्होंने खतरे को कोलकाता के आस-पास भटकने से पहले ही अपना काम कर दिया था.

 

उनकी पारी 57 रन पर खत्म हुई. तब कोलकाता जीत के बेहद करीब पहुंच चुकी थी और क्रीज पर दिनेश कार्तिक बल्लेबाजी कर रहे थे. आखिर में चौका जड़कर उन्होंने अपनी टोली को जीत का सेहरा थमाया. हालांकि दूसरी तरफ गेंदबाजी करने उतरे उमरान मलिक ने जरूर लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचा. क्योंकि एक लंबे वक्त के बाद किसी भारतीय तेज गेंदबाज के ओर से ऐसी गति देखने को मिली थी. उन्होंने अपने स्पेल में केकेआर पर अच्छा खासा दबाव भी बनाया था.

सलामी बल्लेबाज ने मैन ऑफ द मैच का खिताब मिलने के बाद उमर मलिक को लेकर कही ये बात

photo 2021 10 03 23 53 23

इस मैच के खत्म होने के बाद सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल (Subhman gill) को मैन ऑफ द मैच (MOM) के खिताब से नवाजा गया. इस सम्मान को हासिल करने के बाद मैच प्रजेंटेशन में बात करते हुए उन्होंने कहा कि,

“विकेटों को हाथ में रखना महत्वपूर्ण था और फिर रन के करीब आने पर हम आक्रमण कर सकते थे. विकेट का आंकलन करना जरूरी था. इस सतह पर स्पिनरों को हिट करना आसान नहीं था. मैं ज्यादातर छोटी बाउंड्री को निशाना बना रहा था. अगर आप कम स्कोर वाले खेल में एक खराब शॉट खेलते हैं तो विरोधी वापस आ सकते हैं.

इसलिए संभल कर खेलने की जरूरत थी. जब आप उत्तर भारत में खेलते हैं तो विकेट उतने उछाल वाले नहीं होते हैं. उस समय आप कलाई से बहुत अधिक खेलते हैं. इसलिए मैं उनका बहुत इस्तेमाल करता हूं. उमरान मलिक निश्चित रूप से काफी तेज थे.”