जब भी भारत के महान कप्तानों का जिक्र आयेगा तो उसमें कैप्टन कूल कहे जाने वाले पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम सबसे ऊपर ही आएगा. धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत को दो आईसीसी वर्ल्ड लेवल टूर्नामेंट जितवाए हैं. भला इस बात को भारतीय क्रिकेट इतिहास में कैसे भूला जा सकता है. इंटरनेशनल स्तर के साथ साथ घरेलू क्रिकेट में भी धोनी से परिपक्व कोई कप्तान नहीं है इस बात को उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग में साबित किया है.
हाल ही में संपन्न हुए आईपीएल के 11 वें संस्करण में धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स ने एक बार फिर कब्ज़ा जमाया. इसके साथ ही धोनी ने तीसरी बार चेन्नई को आईपीएल विजेता बनवाया. फिलहाल धोनी अपने गृह जनपद रांची में परिवार संग आराम फरमा रहे हैं. रविवार को धोनी रांची स्थित प्राचीन दिउड़ी मंदिर पहुंचे. जहां उन्होंने मंदिर में में पूजा-अर्चना की और माता के दरबार में मत्था टेका.
रिपोर्ट्स की माने तो धौनी दिन के 11 बजे मंदिर पहुंचे. उन्होंने शिवा प्रसाद दुकान से प्रसाद लेकर मंदिर में प्रवेश किया, जहां मंदिर के पुजारी मनोज पंडा ने उनसे पूजा-अर्चना कराई. धौनी मंदिर परिसर में आधा घंटे तक रुके और अपने प्रशंसकों को निराश नहीं करते हुए ऑटोग्राफ दिए और फोटो भी खिंचवाया. प्रशासन की ओर से सुरक्षा की व्यवस्था चुस्त थी. चेन्नई सुपर किंग्स की जीत के बाद पहली बार धोनी दिउड़ी मंदिर आए थे. धोनी के साथ उनके दोस्त ने भी पूजा-अर्चना की.

देवरी मां मंदिर के पुजारी मनोज पंडा ने महेन्द्र सिंह धोनी के वहां दर्शन करने को लेकर बताया कि “महेन्द्र सिंह धोनी वर्षों से यहां पूजा-अर्चना करते आए हैं. और उन पर मां देवरी का आशीर्वाद हमेशा बना रहता है. आज भी उन्होंने पूजा कर अगली सीरीज में जीत की मन्नत मांगी. वो 15 मिनट तक मंदिर परिसर में रहे.”