l28 3881502095714

S. Sreesanth:  इंडियन टीम को आगामी अक्टूबर महीने में टी20 वर्ल्ड कप खेलना है. ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप जीतने के लिए टीम तैयारियों में जुट गई है और इस बार कोई भी कमी नहीं छोड़ना चाहती है. ऐसे में आज कल खिलाडियों के वर्कलोड को देखते हुए इंडियन क्रिकेट बोर्ड ने एक बार फिर से मेंटल कंडीशनिंग कोच को टीम के सपोर्ट स्टाफ में जोड़ा है.

अब इंडियन टीम के साथ पैडी अप्टन (Paddy Upton) को नियुक्त्त किया गया है. वो साल 2011 में भी टीम के साथ जुड़े हुए थे जब इंडिया ने वर्ल्ड कप जीता था. लेकिन उनकी नियुक्ति पर विश्व विजेता टीम में शामिल खिलाडी ने ही सवाल खड़े कर दिए हैं. आइये जानते हैं पूरी बात…

“वो कोई चमत्कार नहीं कर सकते हैं”

S. Sreesanth
S. Sreesanth

साल 2007 व 2011 की वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा रहे एस. श्रीसंत (S. Sreesanth) सुर्खियों में आने का कोई मौका नहीं छोड़ते. अब उन्होंने बोर्ड द्वारा सपोर्ट स्टाफ में पैडी उपटन (Paddy Upton) को जोड़ने पर अपनी राय दी है. उनके आनुसार वो टीम के लिए कोई ख़ास फायदेमंद नहीं साबित होंगे. उन्होंने कहा,

‘मुझे नहीं लगता कि उपटन कोई चमत्कार कर सकते हैं. अगर हम टी20 वर्ल्ड कप जीतते हैं, तो यह खिलाड़ियों और राहुल भाई (द्रविड़) के अनुभव के कारण होगा. हमारे पास एक अच्छी टीम है. लेकिन मुझे नहीं लगता कि आप जिस व्यक्ति (उपटन) के बारे में बात कर रहे हैं, उससे कोई खास फर्क पड़ने वाला है. जब आप घरेलू क्रिकेट खेलते हैं, तब भी आपको मानसिक रूप से फिट रहना होता है. यानी कंडीशनिंग पहले से हो रही है.’

राहुल द्रविड़ और कप्तान होंगे अहम साबित

rahul dravid and rohit sharma

एस. श्रीसंत (S. Sreesanth) ने कहा है की उनका योगदान अहम नहीं है. टीम की जीत की असली तैयारी कोच, टीम और कप्तान के प्रदर्शन से ही होती है.

उनका मुश्किल से एक प्रतिशत उनका योगदान रहा होगा. कोच गैरी कर्स्टन (Gary kirsten) ने 99 प्रतिशत काम किया. उपटन उनके लिए सिर्फ एक असिस्सेंट थे. वह वापस आ गया है, क्योंकि उसने पहले राहुल द्रविड़ के साथ काम किया है. राहुल भाई (Rahul Dravid) निश्चित रूप से उनका अच्छा इस्तेमाल करेंगे, क्योंकि वह एक अच्छे योग टीचर हैं.

kirsten 759 1

उन्होंने आगे भारत के पूर्व कोच गैरी कर्स्टन की तारीफ करते हुए उनको बेहतरीन कोच कहा है. पूर्व भारतीय तेज़ गेंदबाज़ के अनुसार,

गैरी कर्स्टन एक अद्भुत कोच थे. इससे हर खिलाड़ी सहमत होगा. 2007-08 में ऑस्ट्रेलिया में सीबी सीरीज से आने पर उनके पास यह दृष्टि थी. उन्होंने कहा कि मुझे याद है कि गैरी ने मुझे, सुरेश रैना (Suresh Raina) और कुछ अन्य लोगों ने फील्डिंग करते हुए कहा था कि जो भी 2011 वर्ल्ड कप जीतने की महत्वाकांक्षा रखता है, यह भी उसकी शुरुआत है. इससे उनके लक्ष्य को समझा जा सकता है.