Sourav Ganguly

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज कप्तान व बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) को उनके दंबग अंदाज के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। फिर चाहें भारतीय टीम को विदेशी धरती पर जीत दिलाने की बात हो, लॉर्ड्स में टी-शर्ट को हवा में लहराने की या निजी जिंदगी में अपने प्यार को पाने की। गांगुली के मैदानी किस्से तो आपने कई सुने होंगे, लेकिन आज 49वें जन्मदिन पर आपको बताते हैं कि कैसे अपने प्यार को मुकम्मल करने के लिए गर्लफ्रेंड डोना को पूर्व कप्तान ने घर से भगाकर शादी की थी।

बचपन में खेल-खेल में हो गया सच्चा प्यार

sourav ganguly

Sourav Ganguly और डोना गांगुली का बचपन वाला लडप्पन का प्यार सच्चा था। ये कहानी उनके बचपन में ही शुरु हो गई थी। असल में वह पड़ोसी थे, मगर उनके परिवारों के बीच बातचीत नहीं थी। मगर जब इश्क परवान चढ़ता है, तो जुबां वाली बातचीत की कुछ खास जरुरत नहीं पड़ती। ऐसा ही कुछ गांगुली की लव स्टोरी में भी हुआ।

गांगुली स्कूल आते-जाते डोना को देखा करते थे, वह उन्हें इम्प्रेस करने के लिए फुटबॉल स्किल्स भी दिखाते थे। बस फिर क्या था दादा का ये नटखट अंदाज डोना को पसंद आ गया और वह दोनों एक-दूसरे को दिल दे बैठे। 1996 में जब गांगुली को इंग्लैंड दौरे के लिए चुना गया, तो रवाना होने से पहले गांगुली ने अपने प्यार का इजहार कर दिया। पूर्व कप्तान के लिए इंग्लैंड दौरा बहुत ही यादगार रहा। जब लॉर्ड्स में डेब्यू मैच में शतक लगाया और फिर अगले टेस्ट में भी शतक लगाया और इस तरह उनकी टीम में जगह पक्की हो गई।

भागकर रचाई डोना के संग शादी

इंग्लैंड में शानदार प्रदर्शन के बाद जब Sourav Ganguly भारत लौटे, तो उन्होंने डोना के साथ शादी करने की ठान ली और फिर अपने इरादों को पूरा करने के लिए वह गर्लफ्रेंड डोना को उनके घर से भगा लाए। जी हां, इस कपल ने फिर 12 अगस्त, 1996 को गुपचुप कोर्ट मैरिज कर ली।

हालांकि दोनों ने इस बारे में अपने परिवारवालों को कुछ नहीं बताया था। फिर जब परिवारवालों को रिश्ते के बारे में पता चला, तो फिल्मों की तरह पहले तो उन्होंने काफी ना नुकुर की, लेकिन अपने बच्चों की खुशी के सामने दुश्मनी को भुलाते हुए रिश्ते को स्वीकार कर लिया। जिसके बाद 21 फरवरी 1997 को सौरव गांगुली व डोना गांगुली ने पूरे रीति-रिवाज के साथ शादी रचाई।

बुरे दौर में भी साथ खड़ी रहीं डोना

Sourav Ganguly

हर खिलाड़ी की तरह सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के करियर में भी बुरा दौर आया, जब लगभग 4 साल तक गांगुली को टीम से बाहर रहना पड़ा। ऐसे में कई खिलाड़ी टूट जाते हैं, मगर गांगुली नहीं टूटे, क्योंकि उनकी पत्नी डोना इस बुरे वक्त में उन्हें मजबूती देते हुए साथ खड़ी रहीं। दादा ने घरेलू क्रिकेट खेला और आखिरकार फिर टीम इंडिया की जर्सी पहनी। उस दौर में डोना के साथ ने गांगुली को साहस दिया कि वह वापसी कर सकते हैं और ऐसा ही हुआ। बताते चलें, 2001 में इनकी बेटी हुई, जिसका नाम सना है और वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं।