सिद्धार्थ कौल

कोरोना महामारी के बाद पहली बार बीसीसीआई ने घरेलू टूर्नामेंट आयोजित किया है, जिसमें सिद्धार्थ कौल जैसे कई खिलाड़ी अलग-अलग टीमों की तरफ से खेल रहे हैं. 29 जनवरी को बड़ौदा और पंजाब के बीच सेमीफाइनल मैच खेला गया था. जिसमें शानदार प्रदर्शन करते हुए बड़ौदा की टीम ने 25 रन से मैच जीतते हुए फाइनल में जगह बना ली है.

सिद्धार्थ कौल का बीसीसीआई लोगो वाला हेलमेट बना विवाद!

सिद्धार्थ कौल

सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी का रविवार को फाइनल टूर्नामेंट खेला जाएगा. खिताब के लिए तमिलनाडु और बड़ौदा टीम के बीच बड़ी भिड़ंत देखने के मिलेगी. यह मुकाबला अहमदाबाद के सरदाल पटेल स्टेडियम में खेला जाएगा. सेमीफाइनल मुकाबले में पंजाब के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करते हुए बड़ौदा की टीम ने 20 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 160 रन बनाए.

इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी पंजाब की टीम 8 विकेट के नुकसान पर महज 136 रन ही बना सकी, और इस टीम का सफर यहीं खत्म हो गया. पंजाब की तरफ से बड़ी पारी (42) कप्तान मंदीप सिंह ही खेल सके. इसी बीच अचानक से जब पंजाब के बल्लेबाज सिद्धार्थ कौल बीसीसीआई लोगो वाला हेलमेट पहने मैदान पर बल्लेबाजी करने के लिए उतरे तो, ऑन फील्ड अंपायरों ने इस पर सवाल उठा दिए और उन्हें लोगो छिपाने के लिए कहा.

बीसीसीआई लोगो हेलमेट पहने सिद्धार्थ कौल, तो अंपायर हुए गुस्सा

सिद्धार्थ कौल

दरअसल बीसीसीआई लोगो वाले हेलमेट खिलाड़ी उस वक्त ही पहन सकते हैं, जब वो नेशनल टीम के लिए किसी टूर्नामेंट के हिस्सा हों. घरेलू क्रिकेट में बीसीसीआई का लोगो वाला हेलमेट पहनकर खेलने की इजाजत नहीं है.  बड़ौदा के खिलाफ खेलने उतरी पंजाब की टीम के जब 8वें विकेट का पतन हुआ तो सिद्धार्थ कौल बल्लेबाजी करने के लिए उतरे.

हालांकि उनकी बल्लेबाजी के दौरान तब विवाद देखने को मिला जब अंपायर की नजर सिद्धार्थ के हेलमेट पर गई. वो क्रीज पर पहुंचे ही थे कि अचानक से ऑन फील्ड अंपायर ने उन्हें वहीं पर रोक दिया. साथ ही हेलमेट को लेकर काफी ज्यादा नाराजगी भी जाहिर की.

अंपायर की सिद्धार्थ कौल पर नाराजगी का सामने आया वीडियो

सिद्धार्थ कौल-अंपायर

अंपायर के काफी ज्यादा गुस्सा करने के बाद सिद्धार्थ कौल ने ड्रेसिंग रूम की ओर इशारा किया और लोगो को छिपाने के लिए कुछ लाने के लिए कहा. इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. जिसमें आप देख सकते हैं कि कैसे अंपायर विरोध जता रहे हैं.

बडौदा की टीम को पंजाब के खिलाफ जिताने में सबसे बड़ा योगदान  कप्तान केदार देवधर का रहा. 83 की औसत से शानदार पारी खेलते हुए देवधर ने शानदार 64 रनों पारी खेली. इसके साथ ही कार्तिक ककाडे ने 53 रन ठोके. दोनो की बीच 93 रनों की जबरदस्त साझेदारी हुई. इस वजह से पंजाब को बड़ौदा 160 रनों का लक्ष्य देने में सफल हो पाई.