Shikhar Dhawan, IND vs SA, India vs South Africa 2021-22
Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज और श्रीलंका के दौरे पर कप्तान की भूमिका निभाने वाले शिखर धवन (Shikhar Dhawan) का समय कुछ अच्छा नहीं रहा है। पहले तो बल्ले से वो ज्यादा करतब नहीं दिखा पा रहे हैं और फिर श्रीलंका के खिलाफ टी20 श्रृंखला भी गंवा दी है। सच कहें तो वो अपने नाम के अनुरूप प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं।

 गब्बर के नाम से मशहूर शिखर बड़ी और तेजतर्रार पारी के लिए जाने जाते हैं। लेकिन, हालिया प्रदर्शन देखते हुए ऐसा लग रहा है कि बस कुछ दिन और फिर उनका दौर खत्म होने की कगार पर पहुंच जाएगा। अगर ऐसे ही चलता रहा तो धवन का टी20 करियर खत्म हो सकता है। चलिए नजर डालते हैं ऐसे ही कुछ कारणों पर।

Shikhar Dhawan का करियर खत्म होने के ये हैं चार कारण

1. धीमी बल्लेबाजी

Zaheer Khan

भारतीय सलामी बल्लेबाज Shikhar Dhawan ने अभी तक कुल 68 अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच खेल चुके हैं। जिनमें उनके नाम 11 अर्धशतक दर्ज हैं। वैसे बता दें कि धवन ने एक भी बार शतक नहीं बनाया है। भारत के सबसे अच्छे सलामी बल्लेबाजों में शुमार यह बल्लेबाज पिछले कुछ समय से बहुत ही धीमी बल्लेबाजी कर रहा है। लंका के खिलाफ दूसरे और तीसरे टी20 मैच में भी उन्होंने बहुत धीमी बल्लेबाजी की।

पहले मैच में उन्होंने 46 रन बनाने के लिए 36 गेंदें लीं और फिर दूसरे मैच में 42 गेंदों में सिर्फ 40 रन ही बना सके। तीसरे में तो जीरो पर उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा। टी20 क्रिकेट तेजी के लिए जाना जाता है और धीमे बल्लेबाजी कर बल्लेबाज टीम के ही नुकसान कर बैठता है। आपको बता दें कि टी20 करियर में उनका स्ट्राइक रेट सिर्फ 126.36 का है, जो कि दोयम दर्जे का माना जाता है।

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse