shefali varma-eng

भारतीय महिला क्रिकेट टीम और इंग्लैंड (INDW vs ENGW) के बीच ब्रिस्टल में खेला गया एकमात्र इकलौता टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया है. इस मुकाबले में महज 17 साल की ओपनर शेफाली वर्मा (shefali varma) ने एक और बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है. इंग्लिश महिला टीम के खिलाफ पहली बार टेस्ट मैच में डेब्यू करने वाले इस क्रिकेटर ने एक के बाद एक कई बड़े कारनामे किए हैं. ऐसे उन्होंने कौन सा नया रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कराया है, जानते हैं इस रिपोर्ट के जरिए…

ऐसा करने वाली युवा क्रिकेटर बनी पहली भारतीय महिला

shefali varma

दरअसल इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए इस टेस्ट मैच की पहली पारी से ही टीम इंडिया की ये युवा क्रिकेटर लगातार चर्चाओं में बनी हुई हैं. इस मैच में की दोनों पारियों में बल्लेबाजी करते हुए एक टेस्ट में तीन छक्के जड़ने वाली वो पहली महिला क्रिकेटर की उपलब्धि अपने नाम हासिल करने में कामयाब रही हैं. ब्रिस्टल टेस्ट की पहली पारी में शतक जड़ने से महज 4 रन (96) वो दूर गई थीं. इस दौरान उनके बल्ले से दो गगनचुंबी छक्के निकले थे.

इसके बाद दूसरी पारी में फॉलोअन खेलने उतरीं शेफाली वर्मा (shefali varma) ने फिर से 63 रन की शानदार अर्धशतकीय पारी खेली थी. दूसरी पारी में भी उनके बल्ले से एक करारा और शानदार छक्का निकला था. ये छक्का कई मायनों में इसलिए भी खास है, क्योंकि भारत की तरफ से डेब्यू टेस्ट में ऐसा करने वाली वो पहली भारतीय क्रिकेटर हैं. इससे पहले ये कारनामा एलिसा हिली और लॉरेन विनफील्ड ने किया था. इन्होंने टेस्ट मैच में 2-2 छक्के जड़े थे. हिली ने 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ 3 छक्के लगाए थे.

डेब्यू टेस्ट में ही कर दिया ये कारनामा

photo 2021 06 18 09 36 37 2

हालांकि बात करें भारतीय टीम की इस युवा क्रिकेटर की तो पारी की शुरूआत से ही वो आक्रामक अंदाज में खेल रही थीं. उनके खेल प्रदर्शन को देखकर लोगों ने ये अंदाजा लगा लिया था कि, वो डेब्यू में ही शतक ठोक देंगी. लेकिन दूसरी पारी में वो ऐसा करने से चूक गईं. 63 रन पर सोफी एक्लस्टन की एक फुलटॉस गेंद पर छक्का जड़ने की कोशिश में लॉन्ग ऑन पर खड़ीं कैथरीन ब्रंट को कैच थमा बैठीं. इस बाद ब्रंट ने हवा में छलांग लगाते हुए इस कैच को लपकने में कोई गलती नहीं की.

इस टेस्ट मैच में यदि शेफाली वर्मा (shefali varma) शतक जड़ने में कामयाब हो जातीं तो सचिन तेंदुलकर के बाद कम उम्र में  सेंचुरी जड़ने वाली वो सबसे युवा भारतीय बल्लेबाज की लिस्ट में अपना नाम दर्ज करा देंती. आपको याद दिला दें कि, सचिन ने साल 1990 में महज 17 साल 177 दिन की उम्र में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर टेस्ट में 119 रन की शानदार पारी खेली थी. जबकि महिला क्रिकेटर के उम्र की बात करें तो वो अभी 17 साल 142 दिन की हैं.

ब्रिस्टल टेस्ट मैच में इस भारतीय महिला युवा क्रिकेटर ने लगाई रिकॉर्ड की झड़ी, हासिल की 5 बड़ी उपलब्धि

shefali 1

– 17 साल की ये भारतीय क्रिकेटर सबसे कम उम्र की बल्लेबाज हैं. जिन्होंने डेब्यू करते ही दोनों पारियों में 50 से ज्यादा का स्कोर किया है.

– डेब्यू टेस्ट में भारतीय टीम की तरफ से बल्लेबाजी करते हुए सबसे ज्यादा रन बनाने वाली वो पहली महिला क्रिकेटर बनीं. उन्होंने चंद्रकांता कौल के 75 रन के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है, जो उन्होंने 1995 में न्यूजीलैंड के खिलाफ बनाए थे.

– दिलचस्प बात तो ये है कि, भारत की ये युवा क्रिकेटर डेब्यू टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली भारतीय महिला टीम की पहली और पूरे विश्व में चौथी क्रिकेटर हैं. ब्रिस्टल टेस्ट की दोनों पारियों में उन्होंने कुल 159 रन बनाए हैं.

photo 2021 06 18 09 36 35 1

– शेफाली वर्मा (shefali varma) ने ब्रिस्टल टेस्ट की पहली पारी में स्मृति मंधाना के साथ पहले विकेट के लिए 167 रन की शानदार साझेदारी की थी. ये टेस्ट क्रिकेट में भारतीय महिला टीम की ओर से पहले विकेट के लिए सबसे बड़ी पार्टनरशिप है. उन दोनों ने गार्गी बनर्जी और संध्या अग्रवाल के 153 रन के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है. जो इन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1984 में मुंबई टेस्ट में बनाया था.

– ब्रिस्टल टेस्ट में टीम इंडिया की पहली पारी में 231 में से 72.29 प्रतिशत रन ओपनर की साझेदारी से आए. इससे पहले ये कारनामा एक ही बार हुआ था. उस दौरान जो​डी फ‍िल्‍डस और रचेल हैंस की ऑस्‍ट्रेलियाई जोड़ी ने 2009 में इंग्‍लैंड के खिलाफ छठे विकेट के लिए 229 रन की साझेदारी की थी और ये टीम के कुल स्कोर 309 रन का 74.11 प्रतिशत था.

ये भी पढ़ें: शेफाली वर्मा, रोहित-शिखर को नहीं छोड़ सकीं पीछे, लेकिन टेस्ट मैच में रच दिया ये बड़ा इतिहास