Hardik pandya-virat

टी-20 विश्वकप से पहले स्टार आलराउंडर हार्दिक पंड्या का गेंदबाजी न करना भारतीय टीम प्रबंधन के लिए चिंता की कारण बनी हुई है. हाल ही में, मुंबई इंडियंस के आईपीएल अभियान को नुकसान उठाना पड़ा क्योंकि हार्दिक ने एक भी ओवर नहीं फेंका जिसके कारण वे मध्य क्रम में संतुलन नहीं पा सके. अब ऐसे में भारतीय चयनकर्ता टीम में एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज को जोड़ने पर विचार कर रही है. सुपर-12 में खेलने वाली टीमों के लिए आईसीसी ने अपनी चुनी टीमों में बदलाव करने की तारीख 10 अक्टूबर से बाधा कर 15 अक्टूबर कर दिया है.

एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज को शामिल कर सकते है भारतीय चयनकर्ता

csk

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर पीटीआई को बताया, भारत के 15 सदस्यीय टीम में कम से कम एक तेज गेंदबाज कम है. भारतीय टीम में स्टैंड-बाई खिलाडी के रूप में दीपक चाहर और शार्दुल ठाकुर मौजूद है. शार्दुल जहाँ गेंदबाजी के साथ अच्छी बल्लेबाजी भी कर लेते है तो वही दीपक ने भी श्रीलंका में अपनी बल्लेबाजी की काबिलियत को दिखाया है. तो अगर हार्दिक गेंदबाजी करने में सक्षम नहीं है, तो चयन समिति द्वारा दोनों में से एक को टीम में फिट किया जा सकता है.

रोहित ने दिया था हार्दिक की फिटनेस को लेकर बड़ा बयान

Rohit Sharma on IPL

हैदराबाद के खिलाफ हुए अंतिम मुकाबलें के बाद मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने हार्दिक के बारे में पूछे गए सवाल पर कहा था, उनकी (हार्दिक) गेंदबाजी के ऊपर फिजियो, ट्रेनर काम कर रहे हैं. उन्होंने अभी तक एक भी गेंद नहीं डाली है. हम एक बार में एक मैच लेना चाहते थे और देखना चाहते थे कि वह कहां खड़ा है. वह दिन-ब-दिन बेहतर होता जा रहा है.

अगले एक हफ्ते में वह गेंदबाजी करने में सक्षम हो सकता है, कौन जाने? इस पर सिर्फ डॉक्टर और फिजियो ही अपडेट दे पाएंगे. ऐसे में 15 अक्टूबर तक में अगर हार्दिक अपनी फिटनेस साबित नहीं कर पाते है तो टीम में शार्दुल या दीपक चाहर में से किसी एक को शामिल किया जा सकता है.

वरुण चक्रवर्ती भी है चोटिल खिलाडियों की लिस्ट में

Varun Chakravarthy-T20 WC

अगर वरुण चक्रवर्ती को भारतीय टीम के सहयोगी स्टाफ द्वारा खारिज कर दिया जाता है. तो एकमात्र विकल्प यह है कि यूज़ी अंदर आ सकते हैं. चयनकर्ता उन्हें स्टैंड बाई में से चुन सकते हैं ताकि अगर चक्रवर्ती की फिटनेस चिंता का विषय बन जाए, तो उन्हें ड्राफ्ट किया जा सके. भारत के बायो बबल में नेट बॉलर के तौर पर उमरान मलिक पहले से मौजूद हैं. यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या शिवम मावी को नेट बॉलर माना जाता है.