Sarfaraz Ahmed With his Son

पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सरफराज अहमद (Sarfaraz Ahmed) का एक वीडियो हाल में बेहद सुर्खियां बटोर रहा है। जिसमें वे अपने बेटे के साथ क्रिकेट खेलते हुए नजर आ रहा है। बात और बेटे के बीच क्रिकेट की इस जुगलबंदी को फैंस पसंद कर रहे हैं।

जिसके चलते इस वीडियो ने सोशल मीडिया पर धमाल मचाया हुआ है। हालांकि इस वीडियो में सरफराज अपने बेटे के साथ क्रिकेट खेल रहे हैं लेकिन वे नहीं चाहते कि उनका बेटा प्रोफेशनल क्रिकेट की दुनिया में कदम रखे, इसकी वजह खुद उन्होंने बताई भी है।

अपने बेटे को क्रिकेटर नहीं बनाना चाहते Sarfarz Ahmed

WATCH: Sarfaraz Ahmed's three-year-old son's batting video goes viral

सरफराज अहमद (Sarfaraz Ahmed) ने एआरवाई डिजिटल के शान सहवर प्रोग्राम में कहा था कि वे अपने बेटे को क्रिकेट से दूर रखना चाहते हैं। अहमद ने कहा कि मैं जानता हूं कि मेरे बेटे को क्रिकेट में खासी दिलचस्पी है, लेकिन इसके बावजूद मैं नहीं चाहता कि वो क्रिकेटर बने। इसकी वजह बताते हुए आगे सरफराज खान कहते हैं कि

एक क्रिकेटर होने के नाते मैंने कई ऐसी चीजों का सामना किया है जिनको मैं अब्दुल्ला(सरफराज के बेटे) को सामना करने देना नहीं चाहता हूं। यह मानव स्वभाव है, एक क्रिकेटर होने के नाते मैं चाहता हूं कि मेरा बेटा तुरंत चुना जाए नहीं तो दर्द होता है।

Sarfaraz Ahmed की कप्तानी में पाकिस्तान ने जीता थी चैंपियंस ट्रॉफी 2017

I Don't Want My Son To Become A Cricketer - Sarfaraz Ahmed

इसके साथ ही आपको बता दें कि सरफराज अहमद (Sarfaraz Ahmed) की कप्तानी में पाकिस्तान क्रिकेट टीम ने चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में भारत को मात देकर खिताब अपने नाम किया था। इससे पहले वे पूर्व पाकिस्तानी दिग्गज यूनिस खान की कप्तानी में 2009 में टी20 विश्वकप जीतने वाली टीम का भी हिस्सा थे। पिछले साल ही सरफराज अहमद ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा है, उन्होंने अपने करियर में 49 टेस्ट, 117 वनडे और 61 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं।

2 replies on ““मैं अपने बेटे को क्रिकेटर नहीं बनाना चाहता”, Sarfaraz Ahmed ने आखिर क्यों दिया ऐसा बयान”

Comments are closed.