Sanju Samson and Yuvraj Singh
Sanju Samson and Yuvraj Singh

भारतीय टीम के 27 साल के युवा विकेटकीपर बल्लेबाज संजू सैमसन (Sanju Samson) धाकड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने अपनी प्रभावशाली बैटिंग के चलते फैंस के दिलों में एक खास जगह बनाई है. इसलिए फैंस उन्हें लगातार टीम इंडिया में खेलते हुआ देखना चाहते हैं. उन्होंने भी साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले वनडे में नाबाद 86 रनों की पारी खेलकर बता दिया कि उन्हें लंबे समय तक नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है. वहीं उनकी इस पारी को देखने के बाद साउथ अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज डेन स्टेन (Dale Steyn) भी उनकी तारीफ किए बिना नहीं रह पाए और उन्होंने संजू की तुलना युवराज से करते हुए बड़ा बयान दे दिया है.

डेल स्टेन ने Sanju Samson की तुलना युवराज से की

Dale Steyn-india

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी और सिक्सर की किंग के नाम से मशहूर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) के 6 छक्कों को भला कौन भूल सकता है. युवराज ने इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर 6 गेंदों में 6 छक्के लगाकर क्रिकेट की दुनिया में सनसनी मची दी थी. वहीं अब टीम इंडिया के उभरते युवा बल्लेबाज संजू सैमसन (Sanju Samson) की तुलना उनसे की जा रही है. क्योंकि संजू भी बड़े शॉट्स लगाने की क्षमता रखते हैं. वहीं इस मामले पर डेल स्टेन (Dale Steyn) ने स्टार स्पोर्ट्स पर अपनी राय साझा करते हुए कहा,

“शम्सी आखिरी ओवर करने जा रहा था और सैमसन जानता था कि उनका (शम्सी) दिन खराब है. जब रबाडा ने नो बॉल फेंकी तो मैं नर्वस था. क्योंकि संजू एक ऐसा खिलाड़ी है जिसमें युवी की क्षमता है, जो उन छह छक्कों को हिट कर सकता है और जब उसे 30+ की आवश्यकता हो. ऐसे में वह टीम को जिता सकता है.”

‘मैंने उसे आईपीएल में बड़े शॉट्स लगाते हुए देखा है’

Harbhajan Singh on sanju Samson

दुनिया की सबसे बड़ी घरेलू लीग आईपीएल में संजू सैमसन (Sanju Samson) राजस्थान रॉयल्स के लिए कप्तानी करते है. उन्होंने इस साल 17 मैचों में 458 रन बनाए. इस दौरान संजू के बल्ले से 2 अर्धशतक भी देखने को मिले. सैमसन की बल्लेबाजी पर कभी शक नहीं किया जा सकता. क्योंकि वो अपनी विस्फोटक बैटिंग से मैच का रूख पलटने की क्षमता रखते हैं. यह बात साउथ अफ्रीका के डेल स्टेन (Dale Steyn) भी जानते हैं. उन्होंने संजू की बल्लेबाजी पर बात करते हुए कहा,

“जैसे ही कगिसो रबाडा ने अपने ओवर की आखिरी गेंद पर वह नो बॉल फेंकी, मैं ऐसा था, ‘प्लीज ऐसा न होने दें. क्योंकि आप नहीं जानते संजू जैसा खिलाड़ी क्या करेगा. खासकर तब जब उसके पास वो फॉर्म और विश्वास है. मैंने उसे आईपीएल में देखा था. गेंदबाजों को नीचे गिराने और बाउंड्री मारने की उनकी क्षमता, विशेष रूप से खेल के अंतिम 2 ओवरों में, अविश्वसनीय है.”