जहां एक तरफ फैंस कुलदीप यादव के टेस्ट टीम में आने से खुश है, वहीं क्रिकेट जगत का एक बड़ा नाम इस नए दौर के सेलेक्शन प्रणाली से परेशान दिख रहा है। कुलदीप यादव ने सफेद गेंद से तो वो कमाल कर दिया जो क़ाबिले तारीफ है। पहले टी-20 मुकाबले में 5 विकेट, पहले एकदिवसीय मुकाबले में 6 विकेट। यहां तक कि दूसरे एकदिवसीय में भारत की हार में भी 3 विकेट झटक लिए।

सफेद बॉल से अच्छा करने पर, टेस्ट में जगह से परेशान दिखे संजय मांजरेकर

लेकिन भारतीय क्रिकेट के जाने-माने हस्ती संजय मांजरेकर इस तरह के सेलेक्शन प्रणाली को ले काफी परेशान दिख रहे है। संजय ने ट्वीट कर लिखा “मुझे यह कतई पसंद नहीं आ रहा कि रिस्ट लेग स्पिनर्स का टेस्ट क्रिकेट में नाम सिर्फ सफेद बॉल से अच्छा गेंदबाजी करने के लिए हो रहा है। “

Pic credit: Getty images

इसमें कोई दो राय नहीं की टेस्ट मैचों में इस्तेमाल की जाने वाली लाल गेंद से खेलना सफेद गेंद के मुकाबले मुश्किल है। टेस्ट में गेंदबाजी का अनुभव काफी जरूरी होता है, क्योंकि आपको फिजिकल के साथ-साथ, विकेट न मिलने पर मानसिक तौर से भी मजबूत रहना पड़ता है और यह मजबूती अनुभव के साथ आती है।

हालही रोहित को टेस्ट में जगह न देने पर ट्रोल का शिकार हुई थी बीसीसीआई

https://twitter.com/IMPrateek45/status/1019511474048438272

ग़ौर करने वाली बात है कि हालही सोशल मीडिया पर बीसीसीआई को क्रिकेट फैंस ने रोहित को टीम में जगह न देने पर काफी ट्रोल किया था।

NOTTINGHAM, ENGLAND – JULY 12: England bowler Liam Plunkett is pulled to the boundary by India batsman Rohit Sharma during the 1st Royal London One Day International match between England and India at Trent Bridge on July 12, 2018 in Nottingham, England. (Photo by Stu Forster/Getty Images)

इस जुलाई सफेद गेंद से भारत के लिए रोहित ने दो शानदार शतक बनाए थे। महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्हीं शतकों की बौदौलत भारतीय बल्लेबाजी मजबूत रही थी। यानी अगर सेलेक्टर्स सफेद गेंद को इतना तबजु दे रहे है तो रोहित का नाम टीम में न रखने पर इस चयन की प्रणाली पर सवाल तो खड़ा करती है।

टेस्ट में कुलदीप का कैरियर

predicted-11-if-team-india-against-afghanistan-test-match
Deccanchroonicle

अब तक भारत के लिए खेले गए 2 टेस्ट मुकाबलों में 20.78 की औसत से कुलदीप ने 9 विकेट झटके है। यहां तक की उनकी इकॉनमी भी मात्र 3.22 की है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *