rohit sharma dinesh lad

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) टीम इंडिया के ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनका प्रदर्शन टीम इंडिया के लिए मायने रखता है. बतौर ओपनर टेस्ट फॉर्मेट में उन्होंने उन्होंने अपने आपको हर टीम के खिलाफ साबित कर दिखाया है. लेकिन, इस साल ऑस्ट्रेलिया दौरे पहुंची टीम इंडिया के लिए वो कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए थे. बल्ले से उन्हें काफी संघर्ष करते हुए देखा गया था. ऐसे में इंग्लैंड दौरे पर जाने से पहले हिटमैन को लेकर उनके बचपन के कोच दिनेश लाड ने पहले ही इस बात को लेकर आगाह कर दिया है.

हिटमैन का एक गलत शॉट्स टीम पर पड़ सकता है भारी

rohit sharma

दरअसल आगामी महीने में टीम इंडिया 2 जून को आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (World test Championship) के फाइनल मैच को खेलने के लिए इंग्लैंड दौरे रवाना होगा. इस मुकाबले के बाद भारत और इंग्लिश टीम की भिड़त 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में होगी. लेकिन, इससे पहले हिटमैन के बचपन के कोच दिनेश लाड ने स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए कि,

“इस साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया में रोहित शर्मा (Rohit Sharma)ने अपनी बल्लेबाजी से सभी का ध्यान खींच लिया था. वह तेज गेंदबाजों के खिलाफ अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था. ऐसा लग रहा था कि वह आउट ही नहीं होगा.’ लेकिन कुछ पारियों में उसने अपने विकेट गलत शॉट खेलकर दे दिए. वह इंग्लैंड में ऐसा नहीं कर सकता. टीम को इसका नुकसान हो सकता है”.

इंग्लैंड के खिलाफ खेल को बदल सकते हैं हिटमैन- दिनेश लाड

WhatsApp Image 2021 05 24 at 3.23.53 PM

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के कोच दिनेश लाड (Dinesh Lad) ने कहा कि,

“उसे इंग्लैंड में थोड़ा ज्यादा फोकस रखना होगा. हर गेंद को उसकी मेरिट के हिसाब से खेलना होगा. क्योंकि वहां गेंद काफी स्विंग होती है. लेकिन, इंग्लैंड के खिलाफ हाल ही में टर्निंग ट्रेक्स पर रोहित ने अच्छा खेल दिखाया. जबकि इन्हीं पिचों पर बाकी खिलाड़ियों को काफी दिक्कत हुई थी. इसलिए मुझे भरोसा है कि वह इंग्लैंड में भी अपने खेल को बदल लेगा. क्योंकि क्रिकेट में हालात के हिसाब से ढलना ज्यादा जरूरी होता है”. 

ऑस्ट्रेलिया में ऐसा रहा था हिटमैन

WhatsApp Image 2021 05 21 at 11.44.30 AM 1

बता दें कि रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो टेस्ट मुकाबले खेले थे. इन दो मुकाबलों की 4 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने सिडनी में 26, 52 रन और ब्रिस्बेन में 44 और 7 रन बनाए थे. इस दौरे पर भारतीय टीम ने कंगारू के खिलाफ 2-1 टेस्ट सीरीज जीती थी.