रोहित शर्मा

कृषि बिल के खिलाफ चल रहे आंदोलन पर आया रोहित शर्मा के बयान पर अब एक्ट्रेस कंगना रनौत भड़क गई हैं. दरअसल बॉलीवुड की क्वीन अपने बेबाक राय के लिए अक्सर चर्चाओं का हिस्सा बनी रहती हैं. देश से जुड़ा मुद्दा हो या फिर किसी और जगत से जुड़ा कोई मसला हो, उस पर एक्टेस की प्रतिक्रिया न आए, ऐसा बहुत कम ही बार देखा गया है. इन दिनों एक्सट्रेस हर किसी पर बरसते हुए नजर आ रही हैं.

रोहित शर्मा ने किसान आंदोलन पर दी प्रतिक्रिया

रोहित शर्मा

हाल ही में रिहाना, मिया खलीफा की ओर से किसान आंदोलन पर आई प्रतिक्रिया को लेकर क्रिकेट जगत की ओर से भी बाहरी देशों के लोगों की बेदखल पर नाराजगी जताई थी. इस दौरान कंगना रनौत ने भी रिहाना के ट्वीट की जमकर आलोचना की थी. ऐसे में अब इस पर रोहित शर्मा का बयान सामने आया है.

किसान आंदोलन को चलते हुए पूरे 2 महीने से ज्यादा हो गए हैं, लेकिन अभी तक सरकार और किसान संगठनों के बीच इस बिल को लेकर किसी भी तरह का समझौता नहीं हो पाया है. एक तरफ सरकार अपनी शर्तों पर अड़ी हुई है, तो वहीं किसान भी अपनी मांग को लेकर लगातार अड़े हुए हैं और धरना दे रहे हैं.

रोहित शर्मा के बयान पर भड़कीं कंगना रनौत

रोहित शर्मा-कंगना रनौत

हालांकि इस मुद्दे पर जब विदेशी पॉप स्टार और पॉर्न स्टार समेत कुछ लोगों का बयान आया तो सोशल मीडिया पर यूजर्स ने इनकी क्लास लगानी शुरू कर दी. इसके बाद तो क्रिकेट जगत से भी इस आंदोलन पर प्रतिक्रियाएं आने लगी. सचिन तेंदुलकर से लेकर प्रज्ञान ओझा और सुरेश रैना जैसे खिलाड़ियों ने ये कहते हुए आपत्ति जताई कि यह भारत का आंतरिक मामला है.

ऐसे में अब रोहित शर्मा ने भी किसान आंदोलन पर पहली बार अपनी प्रतिक्रिया ही है, जिस पर कंगना रनौत बुरी तरह से भड़क गई हैं, और अपनी शब्दों की मर्यादाओं को लांघे हुए उन्होंने बुरी तरह से सलामी बल्लेबाज को खरी-खोटी सुना दी है.

रोहित शर्मा को कंगना ने कहा धोबी का कुत्ता

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा ने अपने हालिया ट्वीट में लिखा है कि,

”जब भी हम सब साथ खड़े रहे हैं भारत हमेशा ताकतवर रहा है और एक उपाय निकालना इस वक्त बहुत ज्यादा जरूरी बन गया है. हमारे देश की भलाई में हमारे किसान का एक अभिन्न योगदान है, और मुझे आशा है कि हम साथ मिलकर इसका कोई निवारण निकालेंगे.

रोहित शर्मा

हिट मैन के इस ट्वीट पर तो कंगना जैसे आग बबूला हो गई, उन्होंने जवाब में लिखा कि,

“क्यों ये सब क्रिकेटर्स ऐसे लग रहे हैं जैसे, धोबी का कुत्ता न घर का न घाट का. किसान ऐसे कानून के खिलाफ क्यों होंगे जो उनके लिए भले के लिए एक क्रांतिकारी कदम के जैसे है.  ये आतंकवादी हैं जो बवाल मचा रहे हैं. ऐसा कहो ना, इतना डर लगता है?”