Rohit Sharma

Rohit Sharma: इंडियन क्रिकेट टीम के मौजूदा कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की अगुवाई में टीम इंडिया लाजवाब प्रदर्शन करती हुई नजर आई है। दक्षिण अफ्रीका दौरे पर निराशाजनक हार के बाद रोहित शर्मा ने भारतीय टीम का खोया हुआ आत्मविश्वास लौटाया, जिसके बाद भारत ने घर पर आई हर टीम को एक भी मैच जीतने का मौका नहीं दिया।

इस दौरान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने टीम में कई बदलाव किए, जिसके चलते लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे कुलदीप यादव को भी टीम में जगह दी गई। लेकिन इसी बीच कप्तान रोहित ने एक ऐसे खिलाड़ी को नजर अंदाज किया जो साल 2013 में भारत को चैम्पीयन ट्रॉफी अपने दम पर जिता चुका है।

Rohit Sharma इस खिलाड़ी को नहीं दे रहे मौका

Shikhar Dhawan And Rohit Sharma: The Opening Partnership That Raised A Lot Of Eyebrows | IWMBuzz

दरअसल, हम बात कर रहे हैं मिस्टर आईसीसी के नाम से मशहूर होने वाले टीम इंडिया के गब्बर शिखर धवन (Shikhar Dhawan) की। साल 2013 में रोहित शर्मा के पहली बार ओपनिंग करने वाले इस खिलाड़ी ने भारत को कई मैच जिताए हैं। 35 वर्षीय बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने आईसीसी टूर्नामेंट में भारत का परचम बुलंद करवाया है, जिसमें चैम्पीयन ट्रॉफी और 2019 विश्वकप शामिल है, लेकिन दुर्भाग्यवश अब ये बल्लेबाज टीम इंडिया से तीनों फॉर्मेट में बाहर होने की कगार पर खड़ा है। खासकर टेस्ट प्रारूप में अब शिखर धवन की वापसी से सारे दरवाजे बंद हो चुके हैं।

शिखर धवन तीनों फॉर्मेट में बाहर होने की कगार पर

Shikhar Dhawan: Biography, Career, Marriage, Rankings, Statistics, Awards & Achievements

शिखर धवन को जब भी खेलने का मौका दिया जाता है, उन्होंने रनों का अंबार लगाया है। चाहे इंटरनेशनल क्रिकेट हो या आईपीएल गब्बर के बल्ले से रनों की रफ्तार कम नहीं हुई है। लेकिन इसके बावजूद शिखर धवन की टीम इंडिया में जगह पक्की नहीं है। रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के कप्तान बनने के बाद अंदेशा लगाया जा रहा था कि अब रोहित शर्मा को मौका दिया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

शिखर धवन ने अपना आखिरी वनडे मुकाबला दक्षिण अफ्रीका में खेला था, जबकि उनको सफेद कपड़ों में भारत का नेतृत्व किए हुए 4 साल से भी ज्यादा का समय हो चुका है। धवन ने साल 2018 में टीम इंडिया के लिए टेस्ट मैच खेला था। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 34 मैच में 41 की औसत से 2300 से अधिक रन बनाए हैं, जिसमें इन्होंने शानदार 7 शतक लगाए हैं। इसके बावजूद अब उनका टेस्ट करियर खात्मे की कगार पर है। वहीं टी20 में भी शिखर को मौका मिलने के चांस बेहद कम है।