Rohit Sharma Most T20I Matches Record

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) कप्तानी के मोर्चे पर हर मैच में नया रिकॉर्ड अपने नाम करते हुए नजर आ रहे हैं। हाल ही में भारत बनाम श्रीलंका सीरीज में उन्होंने मेहमान टीम को 3-0 से हराने के बाद क्लीन स्वीप का चौका लगा दिया है। लेकिन इस पूरी सीरीज में उनके बल्ले से रन नहीं निकले हैं। श्रीलंका के खिलाफ रोहित ने 3 मैचों में सिर्फ 50 रन ही बनाए। जिसके चलते अब पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने “हिटमैन” के बल्लेबाजी फॉर्म को लेकर बड़ा बयान दिया है।

Rohit Sharma के बल्लेबाजी फॉर्म ने बढ़ाई चिंता

Rohit Sharma wicket in 2nd T20 Vs SL

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) श्रीलंका के खिलाफ टी20 सीरीज में टीम इंडिया के सबसे अनुभवी बल्लेबाज थे। लेकिन इस पूरी सीरीज में उनके बल्ले से रन नहीं निकले हैं। हालांकि पहले मैच में उन्होंने 44 रन बनाए थे। लेकिन इसके बाद पहले और दूसरे टी20 मैच में रोहित ने क्रमर्श 1 और 5 रन ही बनाए। लिहाजा उन्होंने 3 मैचों की इस सीरीज में 16.67 की मामूली औसत से सिर्फ 50 रन बनाए। रोहित के इस बल्लेबाजी प्रदर्शन को लेकर पूर्व भारतीय खिलाड़ी सबा करीम का कहना है कि,

“रोहित शर्मा अपनी बल्लेबाजी के कारण प्लेइंग इलेवन में हैं। कप्तानी एक अतिरिक्त जिम्मेदारी है। उन्हें बल्लेबाजी के मामले में अपना ध्यान नहीं खोना चाहिए। कई बार हमने देखा है कि कप्तान अपने प्राथमिक कौशल में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं। ऐसा रोहित के साथ नहीं होना चाहिए।”

Rohit Sharma को बल्लेबाजी पर काम करने की जरूरत – सबा करीम

Saba Karim

सबा करीम ने यह भी कहा कि रोहित शर्मा (Rohit Sharma) भारतीय कप्तान के रूप में अभी शुरुआत कर रहे हैं और उन्हें एहसास होगा कि बल्ले से उनका योगदान उनकी टीम के लिए कितना महत्वपूर्ण है। यह कहते हुए कि 2022 टी 20 विश्व कप के दौरान रोहित का प्रदर्शन भारतीय पक्ष के लिए महत्वपूर्ण होगा, करीम ने यह कहते हुए निष्कर्ष निकाला कि ‘हिटमैन’ को अपने बल्लेबाजी फॉर्म में सुधार करने पर काम करने की जरूरत है। सबा ने कहा कि

“रोहित शर्मा के लिए यह सिर्फ शुरुआती चरण है। उन्हें धीरे-धीरे एहसास होगा कि टीम के लिए उनके रन कितने महत्वपूर्ण हैं। उनका प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया में (टी 20 विश्व कप के दौरान) महत्वपूर्ण होगा, जहां मैदान बड़े हैं और विपक्ष के पास उच्च गुणवत्ता वाले गेंदबाज हैं। तो हां, रोहित शर्मा को इस क्षेत्र में काम करने की जरूरत है।”