ravi shastri

भारतीय टीम के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. आईपीएल में शानदार प्रदर्शन के बावजूद भी इस खिलाड़ी एशिया कप 2022 से बाहर रखा गया. ऐसे में टीम सिलेक्शन को लेकर फैंस लगातार मैनेजमेंट पर निशाना साध रहे हैं. वही अब इस मामले पर रवि शास्त्री ने चुप्पी तोड़ते हुए बड़े सवाल खड़े किए हैं.

मोहम्मद शमी को एशिया कप से बाहर करने पर नाराज हैं Ravi Shastri

ravi shastri 4

रोहित शर्मा की कैप्टेंसी में कई खिलाड़ियों की एंट्री हुई जबकि कई सीनियर खिलाड़ियों को एशिया कप से बाहर बैठा दिया गया. फैंस लगातार एशिया कप के लिए चुनी गई टीम पर सवालिया निशान खड़े कर रहे हैं. खासकर भारतीय टीम एशिया कप में अपनी खराब गेंदबाजी के लिए खूब चर्चाओं में है. इसका कारण है कि शमी जैसे गेंदबाजों का टीम में ना होना. कॉमेंट्री के दौरान रवि शास्त्री (Ravi Shastri) ने इस बारे में बात करते हुए कहा,

“अगर आपको जीतना ही है, तो आपको बेहतर तैयारी करनी होती है. मुझे लगता है कि टीम सिलेक्शन इससे बेहतर हो सकता था. खासकर तेज गेंदबाजों की बात करें तो, आपको पता है कि दुबई की परिस्थितियां कैसी हैं, यहां स्पिनरों के लिए ज्यादा कुछ नहीं है.

मैं इस बात से हैरान था कि आप यहां महज चार तेज गेंदबाजों के साथ आए हैं, जिसमें एक हार्दिक पांड्या है. मोहम्मद शमी जैसा गेंदबाज घर बैठा है और यह बात सोचकर मुझे गुस्सा आ रहा है. आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन के बाद उसको टीम से बाहर रखना मुझे समझ नहीं आ रहा है.”

‘क्या टीम के सिलेक्शन में कोच का इनपुट होता है’

wasim akram and ravi shastri

किसी भी टीम के चयन में कप्तान और कोच सिलेक्शन कमेटी के सामने अपनी राय रखते हैं. अगर उन्हें किसी खिलाड़ी डिमांड करनी या फिर वो उस खिलाड़ी को अपनी प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बनाना चाहते हैं को कप्तान और कोच सिलेक्शन कमेटी के सामने अपने इनपुट रख सकते हैं. वहीं खिलाड़ियों के चयन को समझने के लिए पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाद वसीम अकरम (Wasim Akram) ने इस पूरे मामले में सवाल करते हुए कहा, ‘क्या टीम के सिलेक्शन में कोच का इनपुट होता है?’ Ravi Shastri ने जवाब देते हुए कहा,

“हां, होता है. वह सिलेक्शन कमिटी का पार्ट नहीं होते, लेकिन यह कह सकते हैं कि किसे रखना चाहिए या किसे नहीं. मैं जो प्लानिंग की बात कर रहा हूं उसका मतलब है कि एक एक्स्ट्रा तेज गेंदबाज आपके पास होना चाहिए. 15-16 खिलाड़ियों में आप एक स्पिनर कम कर सकते थे.

आपके सामने ऐसी सिचुएशन नहीं होनी चाहिए कि एक खिलाड़ी बीमार है और आपके पास उसकी जगह खिलाने को कोई है ही नहीं. आपको फिर एक्स्ट्रा स्पिनर खिलाना पड़ता है और यह शर्मनाक होता है.”